कोरोनाः तीसरे डोज की भी पड़ेगी जरूरत!

 

vaccination

नई दिल्ली

कोरोना की दूसरी लहर के बीच ये सवाल भी उठे हैं कि क्या भविष्यमें वैक्सीन का तीसरा बूस्टर डोजभी लेना पड़ेगा? देश के जाने-माने एक्सपर्ट का कहना है कि भविष्यमें कोविड-19 महामारी से बचने के लिए लोगों को वैक्सीन का तीसरा डोज भी लेना पड़ सकता है लेकिन इसकी प्रभावशीलता को लेकर अभी पर्याप्त डेटा मौजूद नहीं है।

एम्सके डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कितीसरे डोजकी आवश्यकता मुख्यरूप से दो बातों पर निर्भर करेगी। पहली कि वैक्सीन के दोनों डोजसे मिलने वाली इम्युनिटी कितने दिनों तक टिकती है। दूसरी, अगर नए वैरिएंट्स सामने आते हैं तो वैक्सीन की एफिकेसी के आधार पर तीसरी डोजदी जा सकती है। देश की नेशनल कोविड टास्कफोर्स के सदस्य गुलेरिया का कहना है कि हमारे पास कोई निश्चित डेटा नहीं है लेकिन संभव है कि भविष्यमें तीसरी डोजभी लेनी पड़े। जरूरी नहीं है कि तुरंत लेकिन कुछ समय बाद।

कब तक होगा दूसरी लहर का अंत?

दूसरी लहर का अंत कब तक होगा के सवाल पर गुलेरिया ने कहा कि महामारी पश्चिम से पूर्व की तरफ बढ़ रही है। वो कहते हैं-हमने देखा कि अब देश के पश्चिमी भागों में नए मामलों में स्थिरता आने लगी है और संभव है किये घटते चले जाएं। मध्य भारत में अब भी तेजी से केस आ रहे हैं। लेकिन मुझे उम्मीद है किइस महीने के उत्तरार्द्धमें मामले कम होना शुरू हो जाएंगे। हालांकि उन्होंने चेताया है कि देश के पूर्वी हिस्सों में मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की जा सकती है।

गुलेरिया ने कहा कि हम अगले एक दो महीने में महामारी का बिल्कुल ढलते हुए देख सकते हैं। वो ये भी कहते हैं कि अगर भारत ज्यादा से ज्यादा लोगों के वैक्सीनेशन में कामयाब रहा और लोगों ने कोरोना निमयों को ठीक तरीके से अपनाया तो तीसरी लहर का असर कम रह सकता है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget