मुख्यमंत्री ने की मुख्य न्यायाधीश से मुलाकात

uddhav thackeray

मुंबई

शुक्रवार को मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुलाक़ात की। न्यायाधीश और सीएम के बीच हुई बैठक में क्या चर्चा हुई, इसको लेकर कोई सार्वजनकि बयान नहीं आया है। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री ठाकरे और न्यायाधीश के बीच मराठा आरक्षण और राज्य में  कोरोना की परिस्थिति के साथ -साथ टीकाकरण की व्यवस्था को लेकर चर्चा हुई। खुद कार ड्राइव कर अचानक न्यायाधीश से मिलने के लिए न्यायालय पहुंचकर सीएम ने सबको चौंका दिया, क्योंकि  मुख्यमंत्री के पूर्वनियोजित कार्यक्रम में न्यायाधीश से मिलने का कार्यक्रम शामिल नहीं था। इस दौरान सीएम के साथ राज्य के मुख्य अधिवक्ता अभिषेक कुम्भकोणी,मुंबई मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल मौजूद थे। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को सरकारी आवास वर्षा बंगले पर आयोजित दो कार्यक्रम में शामिल होने के बाद अचानक हाईकोर्ट पहुंचे, जहां उन्होंने मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता से मुलाकात की। आधे घंटे से अधिक चली मुख्यमंत्री  और न्यायाधीश के बीच बैठक में राज्य की कोरोना परिस्थिति और  मराठा आरक्षण पर चर्चा हुई। बता दें कि मुख्य न्यायाधीश ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर राज्य में कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया पर नाराजगी जताई थी। साथ ही राज्य में कोरोना की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय योजना लागू किए जाने का सुझाव भी दिया था। इसी के तहत  हाईकोर्ट परिसर में पिछले तीन दिनों से कोरोना टीकाकरण शुरू किया गया है।

मुख्यमंत्री का अनियोजित कार्यक्रम

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और मुख्य न्यायाधीश की अचानक हुई मुलाकात चर्चा का विषय बन गया है, क्योंकि शुक्रवार को सीएम के सिर्फ दो पूर्वनियोजित कार्यक्रम को जारी किया गया था। इसमें  सरकारी आवास वर्षा बंगले पर सुबह 11.30 बजे महात्मा बसवेश्वर की जयंती पर उनका अभिवादन और दूसरा ऑनलाइन के माध्यम से उस्मानाबाद में चीनी फैक्ट्री का उद्घाटन, इसके बाद तीसरा कोई कार्यक्रम नियोजित नहीं था। सीएम के अचानक न्यायालय पहुंचने और मुख्य न्यायाधीश से मुलाक़ात करने से लोगों ने कई कयास लगाना  शुरू कर दिया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget