बंगाल हिंसा पर शिवसेना चुप क्यों : दरेकर

darekar

मुंबई 

बीते रविवार को पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को तीसरी बार मिली भारी जीत के बाद लगातार शूरू हिंसा के खिलाफ भाजपा ने पांच मई को राज्य सहित देश व्यापी आंदोलन करने करने वाली हैै। भाजपा के इस आंदोलन पर राज्य की सत्ताधारी पार्टी शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधा है,जिसका जवाब देते हुए विधानपरिषद में विपक्ष नेता प्रवीण दरेकर ने शिवसेना को आड़े हाथों लिया है। मंगलवार को ट्वीट के माध्यम से हमला बोलते हुए दरेकर ने कहा कि ममता बनर्जी को जीत की बधाई देते हुए उन्हें शेरनी बताने वाले सीएम ठाकरे से मैं पूछना चाहता हूं कि टीएमसी की सत्ता आने के बाद पश्चिम बंगाल में लगातार हो रही हिंसा पर वे मौन क्यों हैं। दरेकर ने कहा कि विचारधारा की लड़ाई ठीक है, लेकिन चुनाव के बाद शूरू हिंसा  अतिशय निंदनीय और चिंताजनक है। शिवसेेना को आड़े हाथों लेते हुए दरेकर ने कहा कि क्या चुनाव जितने के बाद शेरनी के राज्य में हिंसा ठीक है। इसके साथ उस शेरनी का समर्थन करने वाली शिवसेना हिंसा को लेेकर चुप क्यों है। बंगाल हिंसा के खिलाफ भाजपा ने देश ब्यापि आंदोलन करेगी इसी के तहत प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चन्द्रकान्त पाटिल ने सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया है कि कोरोना का पालन करते हुए  आंदोलन में शामिल  शांति पूर्वक शामिल होकर इसे सफल बनाए।

हिंसा रोकना ममता की जिम्मेदारी : राउत

संजय राउत ने कहा कि चुनाव के बाद बंगाल में हिंसा भड़कना अत्यंत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा कोई नई बात नहीं है। इसका एक लंबा इतिहास रहा है। हिंसा करने वाले बंगाल के हैं या बंगाल के बाहर के, इसकी जांच करनी होगी। स्वाभाविक है कि इस हिंसा को रोकने की जिम्मेदारी ममता बनर्जी की है, लेकिन यह भी बात सही है कि ताली एक हाथ से नहीं बजती।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget