आषाढ़ी वारी उत्सव में 10 पालकियों को अनुमति

पैदल नहीं, बसों से पंढरपुर पहुंचेगी पालकी


मुंबई

महाराष्ट्र के सबसे बड़े धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सव पंढरपुर आषाढ़ी वारी पालकी उत्सव को कुछ शर्तों के साथ सरकार ने अनुमति दे दी है। राज्य के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने बताया कि इस साल केवल 10 पालकियों को वारी के लिए बस से यात्रा करने की अनुमति दी गई है। ये 10 पालकियां 20 बसों से पंढरपुर पहुंचेंगी। हालांकि पंढरपुर का विठ्ठल मंदिर भक्तों और दर्शन के लिए बंद रहेगा। सभी नियमों का सख्ती से पालन करना जरूरी होगा और भाग लेने वाली सभी वारकरियों का मेडिकल टेस्ट आवश्यक होगा।

मुख्य मंदिर रहेगा बंद

उपमुख्यमंत्री और पुणे के पालक मंत्री अजित पवार ने शुक्रवार को पुणे में एक प्रेस कांफ्रेंस लेकर पंढरपुर की आषाढ़ी वारी पालकी उत्सव के लिए नियमावली जारी की। उन्होंने कहा कि देहू, आलंदी में पालकी प्रस्थान समारोह के लिए 100 वारकरियों को अनुमति दी गई है। बाकी बची 8 जगहों पर पालकी प्रस्थान समारोह के लिए 50 वारकरियों को अनुमति दी है। कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले साल की तरह इस बार भी मुख्य मंदिर बंद रहेगा। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि शासकीय महापूजा का कार्यक्रम पिछले साल की तरह सभी नियमों का पालन करते हुए किया जाएगा।

इन 10 पालकियों को अनुमति

संत निवृत्ती महाराज (त्र्यंबकेश्वर), संत ज्ञानेश्वर महाराज (आलंदी), संत सोपान काका महाराज (सासवड), संत मुक्ताबाई (मुक्ताईनगर),संत तुकाराम महाराज (देहू), संत नामदेव महाराज (पंढरपुर), संत एकनाथ महाराज (पैठण), रुक्मिणी माता (कौडानेपुर -अमरावती), संत निलोबाराय (पिंपलनेर - पारनेर अहमदनगर), संत चांगटेश्वर महाराज (सासवड)


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget