जंबो कोविड सेंटर में अब मात्र 10 प्रतिशत बेड पर मरीज

मुंबई

कोरोना महामारी की दूसरी लहर जो कि हाहाकार मचा कर रख दी थी, अब धीरे -धीरे खत्म होने की कगार पर पहुंच रही है। कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर बनाए गए जंबो कोविड सेंटर में अब ऐसी हालत हो गई है कि कोविड सेंटर और सेव्हन हिल्स अस्पताल की कुल बेड में से मात्र 10 प्रतिशत बेड पर ही अब मरीज इलाज करा रहे हैं, इस तरह की जानकारी मनपा अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने दी। उन्होंने कहा कि मनपा इसके बावजूद तीसरी लहर से  निपटने के लिए अपनी पूरी तैयारी कर रखी है। कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर मनपा द्वारा 6 जंबो कोविड सेंटर बनाया गया था, जिनमें तीन जंबो कोविड सेंटर तौकते तूफान के पूर्व ही मरीजों की संख्या कम होने पर सावधानी बरतते हुए बंद कर दिया गया था, जबकि तीन जंबो कोविड सेंटर गोरेगांव नेस्को,और वर्ली एनएससीआई में अब मात्र 10 प्रतिशत बेड पर मरीज शेष रह गए हैं। 

काकानी ने बताया कि गोरेगांव नेस्को जंबो कोविड सेंटर में कुल 2221 बेड का अस्पताल बनाया गया है, जिसमें मात्र 190 मरीज ही इलाज करा रहे हैं। वर्ली एनएससीआई में तो मात्र 79 मरीज ही शेष रह गए हैं, जबकि अंधेरी के सेव्हन हिल असप्ताल में सबसे अधिक 850 मरीज इलाज करा रहे हैं। यह अस्पताल 1750 बेड का है। मनपा ने दहिसर,बीकेसी, मुलुंड जंबो कोविड सेंटर को पहले ही बंद कर दिया था, जिसका मरम्मत का काम चल रहा था। मरम्मत कार्य पूरा होने के बावजूद मनपा अब इन कोविड सेंटर को फिलहाल अभी शुरू नहीं करेगी। मनपा तीसरी लहर जिसका अंदेशा लगाया जा रहा है उससे निपटने के लिए अपनी पूरी तैयारी पहले ही कर ली है। इस तरह की जानकारी देते हुए काकानी ने कहा कि जरूरत पड़ने पर उस उस दौरान इन अस्पतालों को दोबारा से शुरू किया जा सकेगा।  


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget