16 जून को मराठा आरक्षण को लेकर पहला मोर्चा

रायगड किले से सरकार को चेतावनी


मुंबई 

रायगड में आयोजित शिव राज्याभिषेक कार्यक्रम के बाद सांसद संभाजी राजे भोसले ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तक आपने मेरा धैर्य देखा है। हां, मैं संयमी हूं, लेकिन अब से तुम मेरा सब्र नहीं देखोगे। मराठा समुदाय को न्याय दिलाए बिना मैं चुप नहीं बैठूंगा। इसलिए हमने तय किया है कि आंदोलन निश्चित होगा। संभाजी राजे भोसले ने सरकार को 16 जून को पहला मोर्चा निकालने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि पहले चरण में जनप्रतिनिधियों की जवाबदारी है कि सामान्य मराठा लोग सड़कों पर न आएं। संभाजी राजे भोसले ने घोषणा की है कि छत्रपति शाहू महाराज की समाधि से पहला मोर्चा निकाला जाएगा। इसके पहले संभाजी राजे ने सरकार को छह जून अर्थात शिवराज्याभिषेक के दिन तक मराठा आरक्षण को लेकर ठोस कदम उठाने का अल्टीमेटम दिया था। इसके बाद उन्होंने अगला कदम उठाने की बात कही थी। ऐसे में रविवार को रायगड में आयोजित शिव राज्याभिषेक दिवस कार्यक्रम पर सभी की नजरें टिकी हुई थीं।  

मैंने रखा है अभी तक सब्र  

संभाजी राजे ने कहा कि आपने अभी तक मेरा धैर्य देखा है। लेकिन आज मैंने अपने संयम को एक तरफ रख दिया है। सांसद लोकसभा से वेतन लेते हैं, विधायक विधानसभा से, यह आपकी जिम्मेदारी है, लेकिन कोई भी विधायक आगे नहीं आया। इस बारे में बात करें कि आपकी जिम्मेदारियां क्या हैं? वर्तमान सरकार से हाथ जोड़कर अनुरोध किया, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा, लेकिन तुम मेरा धैर्य फिर कभी नहीं देखोगे। मराठा समुदाय को न्याय दिलाए बिना मैं चुप नहीं बैठूंगा। जो होना होगा, वही होगा। इसलिए हमने तय किया है कि आंदोलन निश्चित है।  

हमें हल्के में न लें

संभाजी राजे ने कहा कि मुझे इतना ही कहना है कि फिलहाल आप सड़कों पर न उतरेेें। पहली जिम्मेदारी हमारे जनप्रतिनिधियों की है। शाहूजी महाराज की समाधि से हमारा पहला मोर्चा निकलेगा। जनप्रतिनिधि आपको बताएं कि वे कैसे मराठा समुदाय को न्याय दिलाने जा रहे हैं। कोविड खत्म होने के बाद भी अगर आपने ठोस कदम नहीं उठाए तो संभाजी राजे समेत पूरा मराठा समुदाय मुंबई की ओर मार्च करेगा। अगर आपको डंडा मारना है, तो पहले संभाजी राजे को मारना होगा। छत्रपति के वंशजों को पहले पीटना होगा। हमें हल्के में न लें, मैं बस इतना ही कह रहा हूं।  

सरकार अपनी भूमिका स्पष्ट करे, बुलाए अधिवेशन : उदयनराजे

मराठा आरक्षण को लेकर भाजपा राज्यसभा सांसद उदयनराजे भोसले ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा मराठा आरक्षण पर भूमिका स्पष्ट करने के बाद आंदोलन का नेतृत्व कौन करेगा, इस पर निर्णय लिया जाएगा। रविवार को सातारा के जल मंदिर में राज्याभिषेक कार्यक्रम आयोजित किया गया था, जिसमें शामिल होने के बाद उदयन राजे भोसले ने कहा कि विधायक शिवेंद्र राजे और हमारा परिवार एक है। सरकार को आरक्षण मुद्दे पर सत्र बुलाना और सदन की कार्यवाही को लाइव टेलीकास्ट करना चाहिए। मराठा और अन्य समाज में आर्थिक दृष्टि से कमजोर लोगों को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए।

मराठा आरक्षण केंद्र सरकार का मुद्दा नहीं  

सांसद भोसले ने कहा कि मराठा आरक्षण मुद्दा केंद्र का नहीं, बल्कि राज्य सरकार का है। राज्य सरकार बार-बार केंद्र सरकार पर झूठा आरोप लगाकर जनता और समाज को गुमराह कर रही है। मराठा समाज राज्य का बड़ा समाज है, जिसे सरकार को गंभीरता से लेना चाहिए।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget