पुणे की केमिकल कंपनी में आग : 18 की मौत


पुणे

पुणे के पिरंगुट एमआईडीसी इलाके में एक सैनेटाइजर बनाने वाली फैक्ट्री में आग लगने से 18 लोगों की मौत हो गई है। घटना शाम करीब 5 बजे की है। हादसे के दौरान फैक्ट्री में 37 से अधिक मजदूर काम कर रहे थे। इनमें से 17 को सुरक्षित निकाल लिया गया है। अभी भी 2 कर्मचारी फैक्ट्री के अंदर फंसे हुए हैं। पीएम मोदी ने ट्वीट कर पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की है।  हादसे में मृतकों के परिजनों को प्रधानमंत्री राहत कोष से दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए की मदद की जाएगी।

गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर लिखा है कि पुणे में एक केमिकल फैक्ट्री में आग लगने से हुई हृदयविदारक दुर्घटना का समाचार सुन व्यथित हूं। इस हादसे में जिन लोगों ने अपनों को खोया है उनकी इस अपूरणीय क्षति पर अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं, वे ईश्वर से घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।

कंपनी में हो रहा था सैनेटाइजर का उत्पादनः बताया जा रहा है कि एसवीएस नामक इस केमिकल फैक्ट्री में क्लोरिन डायोऑक्साइड बनाया जाता है। कोरोना संक्रमण के दौरान यहां सैनेटाइजर का प्रोडक्शन किया जा रहा था। हादसे के बाद कंपनी का मालिक भी फरार है।

बहुत तेजी से फैली आगः मौके पर पहुंची दमकल की 3 गाड़ियों और दो दर्जन से ज्यादा फायर ब्रिगेड कर्मी उनके रेस्क्यू का काम किया। सैनेटाइजर में अल्कोहल की मात्रा होती है इस कारण से आग बहुत तेजी से फैल रही है। एसवीएस  केमिकल्स नाम की इस फैक्ट्री में धुंआ भरने के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन में दिक्कत आई। माना जा रहा है कि धुंए की चपेट में आकर लापता मजदूर फैक्ट्री में ही बेहोश हो गए।

मृतकों के परिजनों को  5-5 लाख की मदद

उपमुख्यमंत्री और पुणे के पालक मंत्री अजित पवार ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने हादसे के मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की मदद करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि फिलहाल आग को बुझा दिया गया है और कूलिंग का काम शुरु है। आग के पूरी तरह बुझ जाने के बाद आग लगने की प्राथमिक वजह सामने आ सकेगी। पुणे के जिला अधिकारी ने आग की घटना के जांच के आदेश दिए हैं। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget