चाचा से चिराग की जंग तेज

ऑफिस पर पशुपति का कब्जा    कोर्ट की चौखट पर मामला


पटना

चिराग पासवान ने आखिरकार जेडीयू और चाचा पशुपति पारस के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है। पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चिराग पासवान ने नीतीश कुमार और अपने चाचा पशुपति पारस पर कई आरोप लगाए हैं।

चिराग ने अपने चाचा समेत पांचों सांसदों को एक तरह से रणछोड़ करार दिया। एक बात स्पष्ट थी कि पार्टी में कुछ लोग (पशुपति पारस समेत 5 सांसद) संघर्ष के रास्ते पर चलने को तैयार नहीं थे। वो चाहते थे कि वे सुरक्षित राजनीति करते रहें। 

अब हमें कानूनी लड़ाई भी लड़नी पड़ सकती है, जिसके लिए हम तैयार हैं। मैंने अपनी तरफ से परिवार और पार्टी दोनों को बचाने की भरसक कोशिश की, लेकिन चाचा की संवादहीनता के चलते ऐसा नहीं हो पाया।' इस बीच चाचा-भतीजे की यह लड़ाई अदालत के चौखट तक पहुंच गई है। पशुपति पारस के समर्थकों ने पार्टी कार्यालय पर कब्जा कर लिया। इन घटनाक्रमों के बाद यह तय है कि राजनीतिक परिवार की लड़ाई का पटाक्षेप जल्दी होता नहीं दिख रहा है। दोनों अब आमने-सामने नजर आ रहे हैं।

इधर, लोजपा का दावा है कि अध्यक्ष पद से चिराग पासवान को हटाना इतना आसान नहीं है। लोजपा के प्रवक्ता अशरफ अंसारी कहते हैं, पार्टी संविधान स्पष्ट कहता है कि अध्यक्ष स्वेच्छा से या उसके निधन के बाद ही अध्यक्ष पद से हट सकता है। उन्होंने कहा कि पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मंगलवार को पांच सांसदों को पार्टी से निकाल दिया गया है। बैठक में कम से कम कार्यकारिणी के 35 से ज्यादा सदस्यों की संख्या की जरूरी थी जबकि बैठक में 40 से अधिक सदस्य भाग लिए।

'पशुपति पारस के लिए चिराग को अध्यक्ष पद से हटाना आसान नहीं'

उन्होंने कहा कि पांचों सांसदों को हटाने का प्रस्ताव पार्टी के प्रधान सचिव अब्दुल खलिक लाए और सर्वसम्मति से हटा दिया गया। सूत्र कहते हैं कि पारस गुट अब तक पार्टी के प्रदेश अध्यक्षों और अन्य पदाधिकारियों के समर्थन जुटाने में असफल रही है। इधर, राजनीतिक विश्लेषक और वरिष्ठ पत्रकार संतोष कुमार सिंह भी कहते हैं, "पशुपति पारस के लिए चिराग को अध्यक्ष पद से हटाना आसान नहीं है।" उन्होंने कहा, "जहां तक मेरी समझ है, लोकसभा अध्यक्ष पारस गुट को अलग मान्यता दे सकते हैं कि लेकिन लोजपा पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ही होंगे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget