दो नेताओं को मिली बड़ी जिम्मेदारी

नड्डा ने साबिर अली को बनाया भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का महामंत्री

पटना। जेडीयू छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले पूर्व राज्यसभा सांसद साबिर अली को पार्टी ने छह साल बाद अल्पसंख्यक मोर्चा का महामंत्री बनाया है। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की राष्ट्रीय टीम का ऐलान किया गया। इसमें साबिर अली को बिहार का महामंत्री बनाया गया है। हालांकि जब अली ने भाजपा का दामन थामा था तब उनका काफी विरोध हुआ था। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अल्पसंख्यक मोर्चे की 20 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा की। इसमें सबसे ज्यादा सदस्य उत्तर प्रदेश से हैं। इसके बाद बिहार से दो सदस्यों को राष्ट्रीय मोर्चा में जगह मिली है। बिहार से अली के अलावा अररिया के मुफ्ती अब्दुल वहाब कासमी को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। 

बता दें कि साबिर अली जब जेडीयू में थे, तो उन्हें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का काफी करीबी माना जाता था। इसी कारण पार्टी ने उन्हें राज्यसभा भी भेजा था। हालांकि कुछ समय बाद सीएम नीतीश से उनके रिश्ते बिगड़ गए और उन्हें पार्टी से बाहर निकाल दिया गया। इसके बाद 2014 में वे भाजपा में शामिल हुए। पार्टी में उनके आते ही राष्ट्रीय नेताओं ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया।

बिहार भाजपा के नेताओं ने भी साबिर अली का खुलकर विरोध किया था। वरिष्ठ भाजपा नेता और मौजूदा केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने साबिर अली का विरोध करते हुए ट्वीट कर कहा था कि आतंकवादी भटकल का दोस्त भाजपा में शामिल हुआ है। शायद जल्दी ही दाऊद भी आएगा। इसके बाद पार्टी ने अपना फैसला वापस ले लिया था। सदस्यता ग्रहण करने के 24 घंटे बाद ही उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया था। अली ने खुद को भटकल का दोस्त बताए जाने को लेकर मुख्तार अब्बास नकवी पर मानहानि का मुकदमा किया था। हालांकि 2014 के लोकसभा चुनावों के बाद वे एक बार फिर भाजपा में शामिल हो गए थे। वहीं दोनों नेताओं में आपसी सुलह होने के बाद अली ने केस वापस ले लिया था। दूसरी ओर अररिया जिले के वहाब भाजपा के खांटी कार्यकर्ता से लेकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष तक रह चुके हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget