लोकतंत्र में न कोई राजा न कोई गुलामः सुधीर मुनगंटीवार

संजय राउत का गुलामी वाला बयान  बेबुनियाद और गलत


मुंबई 

शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत द्वारा किए गए आरोप पर पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने पलटवार किया है। शनिवार को भाजपा विधायक ने कहा कि राज्य की तत्कालीन देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली युति सरकार की पांच साल सहयोगी रही शिवसेना ने बेईमानी की है। लोकतंत्र में न कोई राजा है न कोई गुलाम। शिवसेना पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि एक गुलाम को अपना स्वाभिमान वापस पाने में पांच साल लग गए? अगर गुलाम की तरह व्यवहार किया जाता है, तो क्या दिवंगत हिंदू हृदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे के उत्तराधिकारी सिंहासन के लिए गुलामी करते। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत के गुलामी वाले बयान को आश्चर्य बताते हुए मुनगंटीवार ने कहा कि राजनीति में ऐसे  शब्द का उपयोग करना सही नहीं है। युति सरकार में पांच साल तक अपना इस्तीफा जेब में लेकर घूमने वाले शिवसेना के मंत्रियों की जेब में कौन सी चेन थी, जो पूरे पांच साल तक नहीं खुली। यदि आपके साथ एक गुलाम जैसा व्यवहार किया जाता, तो आप एक सेकंड में अपना इस्तीफा फेंक देते। पूर्व मंत्री ने कहा कि दिवंगत बालासाहेब ठाकरे के विचार इतनी कमजोर हो सकती है कि उन्हें गुलामी से मुक्त होने के लिए 24 अक्टूबर 2019 के नतीजे का इंतजार करना पड़ा?

एकनाथ शिंदे के पास मुख्यमंत्री जैसी कुर्सी

सुधीर मुनगंटीवार ने कहा की युति सरकार में शिवसेना कोटे से मंत्री का पद संभालने वाले एकनाथ शिंदे सहित शिवसेना के सभी मंत्री मंत्रालय की सातवीं मंजिल पर मिलते थे, वहां मुख्यमंत्री समेत सभी के पास एक ही वजन की, एक ही रंग की, एक ही आकार की कुर्सियां थीं। एकनाथ शिंदे के पास मुख्यमंत्री के समान ही कुर्सी थी। इसलिए गुलामी की भाषा उपयुक्त नहीं है। हर कोई अपने हिसाब से मेहनत करना चाहता था । मुनगंटीवार ने  कहा कि यह महाराष्ट्र और नागरिकों के उत्थान और प्रगति के बारे में सोचने का एक महत्वपूर्ण समय है।

 संजय राउत का आरोप?

शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि राज्य में पिछली देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली युति सरकार में शिवसेना के मंत्रियों को तवज्जो नहीं दिया गया। पिछले पांच सालों में शिवसेना को खत्म करने की सोची-समझी कोशिश की गई है। जब शिवसेना सत्ता में थी तब भी गांव-गांव शिवसेना को खत्म करने की कोशिश की गई थी।  सत्ता के दौरान पूरे पांच साल तक शिवसेना के साथ गुलाम जैसा व्यवहार किया गया। संजय राउत के इस गंभीर आरोप पर भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने पलटवार किया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget