गहलोत की मुश्‍किलें बरकरार

आज शुरू  हो सकता है रार का नया एपिसोड


जयपुर

राजस्थान में कांग्रेस में छिड़ी रार का बुधवार शाम को नया एपिसोड देखने को मिल सकता है। अब तक कांग्रेस में अशोक गहलोत खेमे का समर्थन कर रहे 13 निर्दलीय विधायकों ने नए सिरे से रणनीति तैयार करने के लिए मीटिंग बुलाई है। इन विधायकों का कहना है कि 2020 में सचिन पायलट खेमे की बगावत के चलते जब सरकार गिरने वाली थी, तो उन्होंने ही सहारा दिया था। ऐसे में अब उन्हें इसका इनाम मिलना ही चाहिए। मंगलवार शाम को ही निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा ने सचिन पायलट खेमे पर हमला बोलते हुए कहा कि उनकी बगावत की योजना  भाजपा के कहने पर तैयार हुई थी। दरअसल सचिन खेमे पर निर्दलीय और बीएसपी से कांग्रेस में आए छह विधायक यह कहकर ही हमला बोलते रहे हैं कि उन्होंने  ही मुश्किल वक्त में सरकर बचाई है, जबकि वे लोग तो गद्दारी करने वाले थे। राजस्थान में कांग्रेस आमतौर पर पूर्ण बहुमत के साथ ही आती रही है, लेकिन इस बार उसे 2018 में चुनाव जीतने के बाद से ही सरकार में चलाने में खासी मशक्कत करनी पड़ी है। 200 सीटों वाली विधानसभा में उसके 99 विधायक ही पहुंचे थे। इसके बाद उसने उपचुनाव जीतकर और बीएसपी के 6 विधायकों को शामिल कर आंकड़ा 107 तक पहुंचा लिया था। सरकार स्थिर हुई ही थी कि बीते साल सचिन पायलट खेमे ने बगावत का बिगुल फूंक दिया। 18 विधायकों के साथ सचिन पायलट दिल्ली आ गए थे और कांग्रेस पर सत्ता में फेरबदल का दबाव बना रहे थे। यहां तक कि सचिन पायलट खेमे का दावा था कि उनके समर्थन में 25 से 30 विधायक हैं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget