आंवले का रोजाना सेवन रखेगा जवा और खुबसुरत

 

आंवला खाने से बुढ़ापा दूर रहता है, यौवन बरकरार रहता हैलंबी उम्र के लिए आंवला चूर्ण रात के समय घी, शहद या पानी के साथ लेंआंवला का पेस्‍ट लगाने से बाल घने, मुलायम और काले बनते हैं, कभी-कभी घर के बड़े हमें सलाह देते हैं कि रोज एक आवला खाएं. लेकन हम इस बात को इतनी गंभीरता से लेते नहीं. लेकिन अनुभव तो अनुभव ठहरा. आंवला को हर मर्ज की दवा भी कहा जाता है. कहते हैं, बुजुर्गो की बात का और आंवले के स्वाद का पता बाद में चलता है. आंवला को प्राचीन आयुर्वेदिक प्रणाली में कई तरह के रोगों के इलाज के लिए लगभग पांच हजार साल से इस्‍तेमाल किया जा रहा है. 

आंवले नियमित सेवन दिल की बीमारी, डायबिटीज, बवासीर, अल्सर, दमा, ब्रॉन्काइटिस और फेफड़ों की बीमारी में राम बाण का काम करता है. पतंजलि योगपीठ हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि आंवला के सेवन से बुढ़ापा दूर रहता है, यौवन बरकरार रहता है, पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है, आंखों की रोशनी, स्मरण शक्ति बढ़ती है, त्वचा और बालों को पोषण मिलता है. आंवला चूर्ण 3 से 6 ग्राम लेकर आंवले के स्वरस और 2 चम्मच शहद और 1 चम्मच घी के साथ दिन में दो बार चटाकर दूध पीयें, इससे बुढ़ापा जाता है, आप जवान बने रहते हैं.आंवला, रीठा, शिकाकाई तीनों का काथ बनाकर सिर धोने से बाल मुलायम, घने और लंबे होते हैं. सूखे आंवले 30 ग्राम, बहेड़ा 10 ग्राम, आम की गुठली की गिरी 50 ग्राम और लोह चूर्ण 10 ग्राम रातभर कढ़ाई में भिगोकर रखें और बालों पर इसका लेप लगाने से छोटी उम्र में सफेद हुए बाल कुछ ही दिनों में काले पड़ जाते हैं.

इन बीमारियों में ऐसे करें आंवले 

का इस्‍तेमाल

नेत्ररोग-20-50 ग्राम आंवलों को जौकुट कर दो घंटे तक आधा किलोग्राम पानी में औटाकार उस जल को छानकर दिन में तीन बार आंखों में डालने से नेत्र रोगों में लाभ मिलता है.


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget