‘संभाजी राजे के इस्तीफे से कोई फर्क नहीं पड़ेगा’

जासूसी की खबर सही है तो इसकी जांच होनी चाहिए


मुंबई

राज्य में मराठा आरक्षण को लेकर गरमाई सियासत के बीच छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज संभाजी राजे द्वारा बार-बार राज्य सभा सदस्य (सांसद) पद से इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं उनके इस्तीफे से क्या परिणाम होगा, इसके जवाब में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि संभाजी राजे के सांसद पद से इस्तीफा देने पर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ेगा। पाटिल ने कहा कि आरक्षण मुद्दे को लेकर संभाजी राजे पर जासूसी का आरोप लग रहा है, अगर यह सही है तो इसका मैं निषेध और पूरे मामले की जांच की मांग करता हूं।

ओबीसी आरक्षण से केंद्र का क्या संबंध?

स्थानीय स्वराज संस्था में ओबीसी समाज को मिले अतिरिक्त राजनीति आरक्षण रदद् होने पर गरमाई राजनीति पर बोलते हुए पाटिल ने कहा कि इस आरक्षण से केंद्र का क्या संबंध है। पिछले डेढ़ साल में राज्य सरकार ने पिछड़ा वर्ग आयोग गठित नहीं किया, जिसके कारण न्यायालय ने आरक्षण को रदद् कर दिया।

पवार और फड़नवीस की मुलाकात राजनीतिक नहीं

सोमवार को राकांपा प्रमुख शरद पवार और विपक्ष नेता देवेंद्र फड़नवीस की मुलाकात से गरमाई सियासत पर बोलते हुए पाटिल ने स्पष्ठ किया कि दोनों नेताओं की मुलाकात राजनीतिक नहीं बल्कि महज औपचारिक थी। हाल ही में पवार की सर्जरी हुई है, जिनके स्वास्थ्य की जानकारी के लिए फड़नवीस उनके निवास स्थान पर जाकर उनसे मुलाकात की।

सीएम ठाकरे द्वारा पीएम को पत्र लिखने पर  भी उठाए सवाल

राज्य में बारहवीं कक्षा की परीक्षा के साथ-साथ कई अन्य मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने वाले सीएम ठाकरे पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पाटिल ने जोरदार तंज कसा है। पाटिल ने कहा कि हर मुद्दे पर पीएम मोदी को क्या पत्र लिखना जरूरी है। ऐसे में सीएम ठाकरे राज्य के पर्यावरण मंत्री और बेटे आदित्य ठाकरे की वधु ढूंढ़ने के लिए पत्र लिख सकते हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget