मालाड में पसरा मौत का मातम

मारत धराशाईः पल भर में परिवार खत्म, कुल 12 की गई जान


मुंबई

मालाड मालवणी इलाके में रहने वाले रफीक शेख यह समझ नहीं पा रहे हैं कि खुद की जान बचने पर वह खुदा का शुक्रिया अदा करें या पत्नी सहित परिवार के नौ सदस्यों की जान जाने पर शोक मनाएं। दरअसल बुधवार देर रात तीन मंजिला इमारत की दो मंजिल, एक मंजिले घर पर गिर जाने से आठ बच्चों सहित 12 लोगों की मौत हो गई। शेख (45) उसी इमारत में परिवार के साथ किराए पर रहते थे और इमारत गिरने से महज कुछ मिनट पहले दूध लेने के लिए घर से बाहर गए थे।

 शेख जब लौटे तो पाया कि उनकी दुनिया ही उजड़ चुकी थी। उनकी पत्नी, भाई, भाभी और दोनों परिवारों के छह बच्चों की जान इस हादसे में चली गई। शेख ने बताया कि परिवार का एक अन्य सदस्य मलबे में दबने की वजह से घायल हुआ है और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनके परिवार में अब 16 साल का बेटा बचा है जो हादसे के वक्त दवा खरीदने के लिए घर से बाहर था। एक स्थानीय निवासी ने दावा किया कि इलाके में अधिकतर मकान गैर कानूनी तरीके से बने हैं और बाद में बिना मनपा की मंजूरी के, इन्हें तीन या चार मंजिला इमारतों में तब्दील किया गया है। उन्होंने बताया कि अधिकतर मकानों के मालिक अन्य स्थानों पर रहते हैं और ये मकान गरीब लोगों को किराए पर दे दिये गये हैं।  संयुक्त पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) विश्वास नागरे पाटिल ने बताया कि इमारत को गैर कानूनी तरीके से बनाया गया था और उसमें ढांचागत खामी थी। उन्होंने बताया कि इमारत को पिछले माह चक्रवाती तूफान तौकते की वजह से भी नुकसान पहुंचा था।

मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख 

महाराष्ट्र सरकार ने जान गंवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के परिजनों को पांच- पांच लाख रुपए का मुआवजा देने का एलान किया। सरकार की तरफ से कहा गया कि घायलों के इलाज का खर्च भी उसके द्वारा ही उठाया जाएगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने हादसे में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया और गुरुवार को कांदिवली स्थित बाबासाहब आंबेडकर अस्पताल (शताब्दी अस्पताल) जाकर घायलों का हालचाल जाना। 

दहिसर में भी गिरी चाल, एक की मौत

दहिसर पूर्व  में केतकी पाडा के पास लोखडी चाल के तीन घर ढह गए। इस घटना में प्रद्युम्न सरोज नामक 26 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि सात लोगों को स्थानीय लोगों की सहायता से बचाया गया  ।

पीएम ने जताया दुख

मालाड की इस दर्दनाक घटना पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि दुख कि इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल शीघ्र ठीक हो जाएं।

प्रधानमंत्री ने प्रत्येक मृतक के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से दो-दो लाख रुपए की अनुग्रह राशि और घायल हुए लोगों को 50,000 रुपए देने की घोषणा की।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget