अपने दम पर चुनाव लड़ेगी सपा

मायावती और कांग्रेस कमजोर सहयोगीः अखिलेश

akhilesh yadav

लखनऊ

मिशन 2022 के लिए उत्‍तर प्रदेश में राजनीतिक हलचल का दौर शुरू हो गया है। भाजपा, एसपी समेत सभी राजनीतिक दल अपने कील-कांटे दुरुस्‍त करने में जुट गए हैं। इस बीच, समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि वह अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेंगे। उन्‍होंने कहा कि मायावती और कांग्रेस अच्‍छे सहयोगी नहीं हैं। अखिलेश यादव ने बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस से दोबारा गठबंधन से इंकार किया है। उन्‍होंने कहा कि बड़ी पार्टियों के साथ मेरा अनुभव अच्‍छा नहीं रहा है। हम उनके साथ नहीं बल्कि छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन करेंगे। यादव ने दावा किया कि यूपी की जनता अब बदलाव चाहती है, इसलिए अगले चुनावों में भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ेगा।

भाजपा को नहीं हरा पाएगी कांग्रेस

कांग्रेस को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि यह पार्टी यूपी में भाजपा को हराने के लिए बहुत कमजोर है। 2017 के चुनावों में हमारा कांग्रेस के साथ अच्‍छा अनुभव नहीं रहा। हमने उन्‍हें 100 से ज्‍यादा सीटें दीं पर वे जीत हासिल करने में सफल नहीं रहे। यूपी की जनता ने कांग्रेस को रिजेक्‍ट कर दिया। फिलहाल कांग्रेस यहां से प्रियंका को सीएम प्रत्याशी बनाना चाह रही है।

‘मेरे संपर्क में बसपा के कई नेता’

पूर्व सीएम ने कहा कि राज्‍य की 403 सीटों में एसपी का टारगेट करीब 350 सीटों पर है। यादव ने दावा किया कि बीएसपी के कुछ नेता उनके संपर्क में हैं।  बसपा के कुछ नेता समाजवादी पार्टी से जुड़ भी गए हैं। गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनावों में एसपी ने बीएसपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget