सऊदी का पाक में चीन को झटका

ग्वादर में नहीं बनाएगा तेल रिफाइनरी

Imran Khan Jinping

इस्लामाबाद

सऊदी अरब ने अपने एक ही फैसले से चीन और पाकिस्तान दोनों को बड़ा झटका दिया है। उसने 10 अरब डॉलर की प्रस्तावित ऑइल रिफाइनरी ग्वादर से कराची शिफ्ट करने का फैसला किया है। ग्वादर को चीन की अतिमहत्वाकांक्षी बेल्ड एंड रोड परियोजना का सबसे अहम हिस्सा माना जाता है। हालांकि, सऊदी के कदम से मेगा-इनवेस्टमेंट हब के तौर पर अपनी पहचान खोने की अटकलें तेज हो गई हैं।

ऊर्जा और पेट्रोलियम पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के स्पेशल असिस्टेंट तबीश गौहर ने मीडिया को बताया था कि सऊदी अरब ग्वादर में अपनी रिफाइनरी नहीं बनाएगा लेकिन कराची के पास कहीं एक पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स के साथ बनाएगा। उन्होंने बताया था कि आने वाले पांच साल में दो लाख बैरल प्रतिदिन की क्षमता वाली दूसरी रिफाइनरी पाकिस्तान में बन सकती है। सऊदी अरब ने फरवरी 2019 में इस प्रोजेक्ट के लिए समझौते पर दस्तखत किए थे।

प्रोजेक्ट कराची शिफ्ट करने का फैसला ग्वादर में इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी को दिखाता है। एक पाकिस्तानी अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर बताया है कि ग्वादर की रिफाइनरी एक अच्छा आइडिया नहीं थी। उनका कहना है, 'ग्वादर रिफाइनरी के लिए अच्छी लोकेशन तब होता जब 600 किलोमीटर की पाइपलाइन उसे कराची से जोड़ती, जो देश की तेल सप्लाई का केंद्र है।'


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget