सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों को फीस में छूट

कुल 16 हजार 250 रुपए की राहत   ।   20 हजार छात्रों को मिलेगा लाभ

students

मुंबई

राज्य में कोविड-19 की स्थिति पर विचार करते हुए शैक्षणिक सत्र 2021-22 में सरकारी और अनुदान प्राप्त संस्थाओं में इंजीनियरिंग में प्रवेश के वक्त ली जाने वाली ट्यूशन फीस के अलावा अन्य फीस में 16 हजार 250 रुपए (अनुमानित 25 प्रतिशत) की छूट देने का निर्णय लिया गया है। इस बात की घोषणा उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने की।  

माटुंगा के वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान के क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले सभागृह में मुंबई के राज्य के सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों और संस्थानों की समीक्षा की गई। इस बैठक में उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ओपी गुप्ता, तकनीकी शिक्षा संचालक अभय वाघ एवं संबंधित महाविद्यालय के प्राध्यापक उपस्थित थे।

सामंत ने कहा कि सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्वायत्त इंजीनियरिंग संस्थानों में छात्रों को ट्यूशन फीस के अलावा अन्य शुल्क का भुगतान करना पड़ता है। छात्रों ने पुस्तकालय, जिमखाना और अन्य शैक्षणिक सुविधाओं का उपयोग नहीं किया, क्योंकि वे कोविड अवधि के दौरान कॉलेज में मौजूद नहीं थे, इसलिए छात्रों से शुल्क नहीं लिया जाना चाहिए। कोविड-19 की पृष्ठभूमि में छात्रों और अभिभावकों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए छात्रों को शैक्षिक सहायता प्रदान करने के लिए अन्य शुल्क से 16,250 रुपए की छूट देने का निर्णय लिया गया है। इससे करीब 20,000 इंजीनियरिंग छात्रों को फायदा होगा।

सामंत ने कहा कि होटल प्रबंधन संस्थान के तहत मौजूदा 30 कमरों का प्रशिक्षण केंद्र, सभागार और बैंक्वेट हॉल का उपयोग करने के लिए महाराष्ट्र राज्य तकनीकी शिक्षा बोर्ड को सभी सुविधाओं का नवीनीकरण करना चाहिए और पांच सितारा होटल के साथ एक समझौता करना चाहिए। इससे छात्रों को वास्तविक प्रशिक्षण की सुविधा मिलेगी।

बैठक में वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान (वीजेटीआई), मुंबई, गुरु गोबिंद सिंहजी इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी (एसजीजीएस) नांदेड़, महाराष्ट्र राज्य होटल प्रबंधन और खानपान प्रौद्योगिकी (एचएमसीटी) पुणे, सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज जलगांव, कराड, चंद्रपुर, अमरावती की समीक्षा की गई।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget