वैक्सीन और कोरोना उपयुक्त व्यवहार ही सबसे बड़ा बचाव

राज्य और देश में कोरोना की दूसरी लहर दम तोड़ रही है. इससे थोड़ी राहत महसूस हो रही थी कि अभी कोरोना का दूसरा वैरिएंट डेल्टा प्लस सर पर खड़ा है और पूरे देश में खतरे की घंटी बजा रहा है. चिंतित केंद्र सरकार ने देश भर में चेतावनियां जारी कर दी है संकेत साफ़ हैं कि अभी निश्चिंत होने का कोई कारण नहीं है. कोरोना का खतरा अभी भी बरकरार है और ज़रा सी भी लापरवाही भयंकर परेशानी का कारण हो सकती है, इससे बचने का एकमात्र उपाय वैक्सीनेशान और कोरोना उपयुक्त व्यवहार का सख्ती से अनुपालन है. पूरे देश में जैसे-जैसे दूसरी लहर का प्रकोप कम हो रहा है, वैसे-वैसे पाबंदियों में छूट दी जा रही है. कारण उन्हें भी पता है कि आर्थिक क्रिया-कलाप का भी जल्द पटरी पर आने की जरूरत है. अब यह हमारी यानि जनता जनार्दन की जिम्मेदारी  है की हम ऐसा व्यवहार करें जिससे यह छूट जारी रहे, दुःख की बात है कि ऐसा नहीं हो रहा है. अभी भी हमारे बीच ऐसे सूरमाओं की कमी नहीं है, जो महामारी का प्रकोप और मौत का तांडव देख कर भी कोरोना उपयुक्त व्यवहार नहीं कर रहे हैं और सारे निर्देशों को धता बता रहे है. ऐसी ही नादानियां दूसरी लहर के विकरालता का कारण बनी थीं. सरकार और विशेषज्ञ लगातार चेतावनी दे रहे हैं कि यदि हमने कोरोना उपयुक्त   व्यवहार का सख्ति से अनुपालन नहीं किया तो तीसरी लहर के भी खतरनाक रूप अख्तियार करने से नहीं बचा जा सकता. इसलिए हम अपनी नादानियों से, लापरवाहियों से इस प्रकोप को और भयानक ना होने दें, हम इस बात को समझें की हमारी नादानी हमारे लिए, हमारे परिजनों के लिए कितनी बड़ी समस्या का कारण बन रही है. जान की जोखिम के साथ-साथ तालाबंदी को भी आमंत्रित करती है और हमारे स्वास्थ्य, हमारी रोजी-रोटी सबको संकट में डालती है. इसलिए बेझिझक वैक्सीन लगवाएं और कोरोना उपयुक्त व्यवहार अपनाएं, हम महामारी को जरूर परास्त करेंगे.


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget