CBSE12वीं के रिजल्ट का फार्मूला तय

असंतुष्ट छात्रों को मिलेगा मौका

students

नई दिल्ली

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को वह फार्मूला बताया जिसके आधार पर 12वीं के स्टूडेंट्स का रिजल्ट घोषित होगा। बिना बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट का फार्मूला तो तय हो गया लेकिन अगर कोई स्टूडेंट खुद को मिले अंकों से असंतुष्ट रहता है तो क्या होगा? क्या उसे एग्जाम देने का विकल्प मिलेगा? रिजल्ट पर किसी तरह के विवाद की स्थिति में उसका निपटारा कैसे होगा? सुप्रीम कोर्ट में ये सवाल भी उठे। सुप्रीम कोर्ट को सीबीएसई की ओर से बताया गया कि 12 वीं के स्टूडेंट्स के मूल्यांकन का फार्मूला तय किया गया है और इसके लिए 10वीं, 11 वीं और 12 वीं के प्री बोर्ड परीक्षा के प्रदर्शन के आधार पर फाइनल रिजल्ट तैयार किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई के मूल्यांकन फार्मूला व स्कीम को मंजूरी दे दी है।

प्री बोर्ड के अंकों के आधार पर बनेगा रिजल्ट

10वीं और 11वीं के 5 में से जिन 3 सब्जेक्ट में स्टूडेंट्स ने सबसे ज्यादा स्कोर किया होगा, उन्हीं को रिजल्ट तैयार करने के लिए चुना जाएगा। वहीं, 12वीं के यूनिट, टर्म और प्रैक्टिकल एग्जाम में मिले अंकों के आधार पर तैयार किया जाएगा।

क्या है 30:30:40 फॉर्मूला

पैनल ने 12वीं के छात्रों के मूल्यांकन के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है। इसके तहत 10वीं- 11वीं के फाइनल रिजल्ट को 30 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा और 12वीं के प्री- बोर्ड एग्जाम को 40% वेटेज दिया जाएगा। CBSE ने 4 जून को 12वीं के स्टूडेंट्स की मार्किंग स्कीम तय करने के लिए एक 13 सदस्यीय कमेटी गठन किया था। इस समिति को 10 दिनों में रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए गए थे।

31 जुलाई तक आ जाएगा रिजल्ट

सुप्रीम कोर्ट में कहा गया कि 31 जुलाई तक 12 वीं बोर्ड का रिजल्ट आ जाएगा। साथ ही कहा कि 12 वीं के आंतरिक मूल्यांकन और प्रैक्टिकल आदि के नंबर पोर्टल पर अपलोड किए जाएंगे। सीबीएसई के पोर्टल पर ये नंबर देखे जा सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 12 वीं बोर्ड के वैसे स्टूडेंट्स जिनके मामले में विवाद हो जाए उसके निपटान के लिए प्रावधान भी स्कीम में होने चाहिए। साथ ही जो स्टूडेंटं पेपर देना चाहते हैं उनके लिए ऑप्शन के बारे में भी स्कीम में व्यवस्था करने को कहा गया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रिजल्ट से जो संतुष्ट नहीं हों उन स्टूडेंट्स को एग्जाम में बैठने के ऑप्शन स्कीम मेंं होने चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई को कहा है कि वह फाइनल स्कीम जारी करे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget