बाढ़ प्रभावित जिलों में NDRF, एसडीआरएफ और PAC तैनात

42 टीमों ने संभाला मोर्चा

लखनऊ

उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में बाढ़ का भी खतरा बढ़ता जा रहा है। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रसास से बाढ़ प्रभावित जिलों में सर्च और रेस्क्यू के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीएसी की 42 टीमें तैनात की गई हैं। 13 नावें और 58 मेडिकल टीम लगाई गई है। साथ ही 242 बाढ़ शरणालय, 222 बाढ़ चौकी और 18 पशु शिविर स्थापित किए गए हैं। वर्तमान परिस्थितियों में भी योगी सरकार बाढ़ को लेकर पूरी तरह सतर्क है और जरूरी कदम उठा लिए गए हैं।

एनडीआरएफ की 10 टीमें प्रदेश के छह जिलों बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थ नगर, गोरखपुर, लखनऊ और वाराणसी में लगाई गई हैं। जबकि एसडीआरएफ की 15 टीमें बरेली, मुरादाबाद, कानपुर नगर, प्रयागराज, हमीरपुर, आगरा, कुशीनगर, गोरखपुर, अम्बेडकरनगर, लखनऊ और उन्नाव टीमें लगाई गई हैं। इसी तरह, प्रदेश के 14 जिले, सीतापुर, प्रयागराज, बरेली, आगरा फर्रुखाबाद, आजमगढ़, मुरादाबाद, गोरखपुर, गोण्डा, लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, गाजियाबाद, एटा और मेरठ में पीएसी 17 टीमें लगाई गई हैं। इस प्रकार वर्तमान में प्रदेश के 25 जिलों में कुल 42 टीमें रेस्क्यू कार्यों के लिए प्री डेप्लॉयड हैं।

इन जिलों में बाढ़ का कहर

वर्तमान में 10 जिले बहराईच, बलरामपुर, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, महराजगंज, पीलीभीत, श्रावस्ती, सीतापुर और सिद्धार्थनगर के 22 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। सरकार की ओर से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 13 नावें उपयोग में लाई जा रही हैं और 58 मेडिकल टीमें लगाई गई हैं। 242 बाढ़ शरणालय और 222 बाढ़ चौकी बनाई गई है। इसके अलावा 18 पशु शिविर बनाए गए हैं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अब तक कुल 4821 फूड पैकेट दिए गए हैं।



Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget