रियल एस्टेट के 1.34 लाख करोड़ के कर्ज पर जोखिम


नई दिल्ली

महामारी के प्रभाव से उबर रहे देश के रियल एस्टेट क्षेत्र को दिए गए 100 अरब डॉलर के कर्ज में 67 फीसदी यानी 67 अरब डॉलर (करीब 4.98 लाख करोड़ रुपए) के ऋण पर कोई संकट नहीं है। कुल कर्ज का करीब 75 प्रतिशत  हिस्सा (73 अरब डॉलर से ज्यादा) ए-श्रेणी के डेवलपर्स के पास है, जो पूरी तरह सुरक्षित है। हालांकि, 18 प्रतिशत यानी 18 अरब डॉलर (1.34 लाख करोड़ रुपए) के कर्ज पर गंभीर जोखिम बना है। संपत्ति सलाहकार एनारॉक कैपिटल ने एक रिपोर्ट में कहा कि बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं (एनबीएफसी) और आवास वित्त संस्थाओं (एचएफसी) की ओर से रियल्टी क्षेत्र को दिए गए कुल कर्ज में 15 प्रतिशत यानी 15 अरब डॉलर (1.11 लाख करोड़ रुपए) के कर्ज पर थोड़ा दबाव है, लेकिन मूल रकम के वापस मिलने की गुंजाइश है। एनारॉक कैपिटल के एमडी एवं सीईओ शोभित अग्रवाल ने कहा कि आवासीय सेगमेंट का प्रदर्शन बेहतर रहा है।  अग्रवाल ने कहा कि 2019 अंत तक क्षेत्र को दिए गए कुल 93 अरब डॉलर के कर्ज में कम-से-कम 16 फीसदी पर गंभीर जोखिम था। पिछले एक वर्ष में महामारी के गंभीर प्रभावों के बावजूद कुल 100 अरब डॉलर के कर्ज में महज 18 फीसदी ही इस श्रेणी में आता है। इस तरह देखें तो कर्ज पर जोखिम के लिहाज से रियल एस्टेट दूरसंचार और इस्पात जैसे अन्य क्षेत्रों के मुकाबले कहीं बेहतर स्थिति है। गंभीर जोखिम वाला कर्ज 50 से ज्यादा डेवलपर्स में फैला हुआ है। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget