पुलिसकर्मियों के तबादले से अटकीं 25 हजार जांचें

पटना

छह साल से अधिक समय से एक जिले में जमे पुलिस पदाधिकारियों के तबादले के बाद तिरहुत रेंज में 25 हजार से अधिक विभिन्न प्रकार के केस की जांच अटक गई है। नए पुलिस पदाधिकारियों के आने और केस का चार्ज लेने में एक से दो सप्ताह का समय लग सकता है। तबतक केस की जांच नहीं हो सकेगी। बीते आठ जुलाई को तिरहुत रेंज के आईजी ने मुख्यालय के निर्देश पर रेंज के मुजफ्फरपुर, वैशाली, सीतामढ़ी व शिवहर के करीब 250 जमादार व दारोगा का विभिन्न जिलों में तबादला कर दिया। एक पुलिस पदाधिकारी के पास औसतन 100 केसों के जांच की जिम्मेदारी है। ऐसे में तकरीबन 25 हजार केस की जांच तबादले की वजह से अटक गई है। जिन पुलिस पदाधिकारी का तबादला हुआ है, वे नये जिले में योगदान दे रहे हैं। साथ ही पुराने जिलों के केस चार्ज थानेदार को सौंप भी रहे हैं। जब तक नये पुलिस पदाधिकारी जिले में योगदान नहीं दे देते हैं। तब तक उक्त केसों की जांच अटकी रहेगी। आठ जुलाई को तबादले को लेकर रेंज आईजी की अध्यक्षता में स्थानांतरण बोर्ड की बैठक हुई थी। इसमें रेंज के सभी एसएसपी व एसपी शामिल हुए थे। इसमें तय किया गया था कि सभी एसएसपी व एसपी अपने जिलों के पुलिस पदाधिकारियों को अविलंब विरमित करेंगे। साथ ही पुलिस पदाधिकारियों को यह निर्देश दिए गए थे कि उन्हें नये जिले में अविलंब योगदान देना है। इसके बावजूद पुलिस पदाधिकारी योगदान करने में लेट लतीफी कर रहे हैं। उनकी दलील है कि केस चार्ज देने की प्रक्रिया पूरा करने में जुटे हैं। इसके बाद नये जिला जाएंगे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget