भारत को साल के अंत तक मिल जाएंगे 35 राफेल


नई दिल्ली

फ्रांस भारत को इस साल के अंत तक कुल 35 राफेल लड़ाकू विमानों को भारत को सौंप देगा। आखिरी लड़ाकू विमान जनवरी 2022 में उत्तर बंगाल में हाशिमारा हवाई अड्डे पर लैंड करेगा। फ्रांस से भारत को पहले अभी तक 26 लड़ाकू विमान मिल चुके हैं। इनमें से 24 विमान भारत आ गए हैं, जबकि दो विमान फ्रांस में हैं जिससे भारतीय पायलट और तकनीशियन की टीम ट्रेनिंग लेती है। सामरिक सहयोगी फ्रांस की विश्वसनीयता को देखते हुए भारतीय वायु सेना और और नौसेना ने राफेल प्लेफॉर्म में गहरी रुचि दिखाई है। भारतीय वायुसेना का नेतृत्व भविष्य में 36 और राफेल विमान हासिल करना चाहता है और नौसेना अगले साल शुरू होने वाले आईएनएस विक्रांत (स्वदेशी विमान वाहक -1) पर एक लड़ाकू विकल्प के रूप में राफेल-एम को देख रही है। पश्चिमी और पूर्वी थिएटर में राफेल के शामिल होने से भारत की युद्धक क्षमता कई गुना बढ़ गई है, क्योंकि फ्रांसीसी लड़ाकू विमान उप-महाद्वीप में हवा से हवा में मार करने वाली सबसे लंबी दूरी की उल्का मिसाइल, हैमर एयर टू ग्राउंड स्मार्ट मुनिशन और लंबी दूरी की SCALP एयर से लैस है।

हालांकि, राफेल विमानों डिलीवरी निर्धारित समय से थोड़ा आगे निकल गया है। ऐसे में अब सबकी निगाहें हाशिमारा एयर बेस की सक्रियता पर हैं, जहां राफले लड़ाकू विमानों का दूसरा स्क्वाड्रन तैनात होगा। जबकि पहला स्क्वाड्रन अंबाला में स्थित होगा। भारत के पूर्वी क्षेत्र में राफेल की मौजूदगी से इस क्षेत्र में सैन्य प्रतिक्रिया को बढ़ावा मिलेगा, जिसमें सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश दोनों ही रक्षा प्राथमिकता हैं। हाशिमारा की स्थिति ऐसी है कि यह चुंबी घाटी, सिक्किम और संवेदनशील सिलीगुड़ी गलियारे को कवर करती है। जबकि अंबाला और हाशिमारा दोनों राफेल के घरेलू ठिकाने हैं, परमाणु क्षमता वाले लड़ाकू विमान पूरे भारत और इसके तटवर्ती क्षेत्रों में उड़ान भरेंगे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget