कोरोना के कारण अधर में 36 स्कूलों का पुनर्निर्माण

bmc

मुंबई 

कोरोना महामारी पर हुए खर्च के कारण मनपा के कई विकास कार्यों पर लगाम लग गई है। मनपा प्रशासन ने 36 स्कूलों का पुनर्विकास एवं मरम्म्त करने का निर्णय लिया था, जिस पर 170 करोड़ रुपए खर्च होना था। मनपा अब स्कूलों के मरम्म्त एवं पुनर्निर्माण के निर्णय  को फिलहाल ठंडे बस्ते में डालने का निर्णय लिया है, जिसका मुख्य कारण कोरोना पर बढ़ा हुआ खर्च है।

उल्लेखनीय है कि मनपा प्रशासन ने फरवरी महीने में मनपा द्वारा मंजूर किए गए  2 हजार 900 करोड़ का बजट रखा था, जिसमें लगभग 700 करोड़ रुपए स्कूलों के मरम्म्त एवं पुनर्निर्माण पर खर्च किया जाना था। पिछले साल से आए कोरोना महामारी के कारण मनपा के कुल बजट का लगभग एक तिहाई पैसा कोरोना महामारी पर खर्च होने लगा है, जिससे मनपा के कई प्रोजेक्ट पर असर पड़ा है। मनपा प्रशासन ने मनपा के 36  स्कूलों के मरम्म्त पर मंजूर किए 170 करोड़ खर्च पर भी रोक लगाने का निर्णय लिया है, जिसको लेकर नाराजगी व्यक्त की जा रही है। समाजवादी पार्टी नेता रईश शेख ने स्कूलों के निर्माण और मरम्म्त की जरूरत बताते हुए मंजूर किए हुए प्रस्ताव  पर रोक न लगाने की गुहार लगाई है। समाजवादी पार्टी नेता रईश  शेख ने स्कूलों का मरम्म्त एवं पुनर्निर्माण को जरूरी बताते हुए मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल को पत्र लिखा है। आयुक्त को लिखे पत्र में रईश ने कहा हैं कि जर्जर अवस्था मे पहुंचे  मनपा स्कूल भविष्य में बच्चों के लिए खतरा साबित हो सकता है, जिसके चलते इनकी मरम्म्त करना जरूरी है। मनपा द्वारा स्कूलों के मरम्म्त को लेकर मंजूर किए गए प्रस्ताव पर तत्काल कार्य की शुरुआत कंरने की गुहार लगाई है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget