'सहकार दर्द' लेकर सरकार से मिले पवार

pawar modi

नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राकांपा सुप्रीमो शरद पवार के बीच एक घंटे की मुलाकात में देश का सियासी माहौल गर्म कर दिया जबकि शाम होते-होते खुलासा हुआ कि दरअसल 'सहकार दर्द' को लेकर शरद पवार ने सरकार (मोदी) से मुलाकात की थी।  

शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर सहकारी बैंक में वर्तमान में हो रही समस्याओं से अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में इस क्षेत्र में कुछ विसंगतियों और कानूनी अक्षमता पर ध्यान देने की जरूरत है, साथ ही उन्होंने 97 वें संवैधानिक संशोधन के बारे में भी चर्चा की। 

उन्होंने लिखा कि सहकारी बैंकिंग क्षेत्र राज्य का मामला है। सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र का कोई भी हस्तक्षेप असंवैधानिक होगा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा ने सहकारी क्षेत्र के लिए कानून बनाए हैं और केंद्र को राज्य द्वारा तैयार किए गए कानून में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है।

पवार ने कहा कि वर्तमान में केंद्र द्वारा संशोधित अधिनियम बोर्ड के गठन और अध्यक्ष के चुनाव, प्रबंध निदेशक की नियुक्ति आदि के संबंध में सहकारी अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों को खत्म करता है।

मुलाकात पर राकांपा की सफाई

मोदी और पवार की मुलाकात के बाद अटकलों का बाजार इस तरह गर्म हुआ कि महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी के साथ सरकार चला रही पार्टी को सफाई देनी पड़ी। राकांपा नेता नवाब मलिक ने बताया कि पवार की पीएम के साथ मुलाकात का एजेंडा क्या था। नवाब मलिक ने कहा, 'राकांपा चीफ शरद पवार ने पीएम मोदी से बैंकिंग रेग्युलेशन एक्ट में केंद्र सरकार से किए गए संशोधन को लेकर मुलाकात की है,जिससे सहकारी बैंकों के अधिक कम कर दिए गए हैं।' पीएम और पवार की बैठक को लेकर अटकलों पर उन्होंने कहा, 'बैठक को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं, लेकिन पवार ने सीएम ठाकरे और कांग्रेस नेताओं को इसके बारे में पहले ही जानकारी दे दी थी। पवार ने पीएम मोदी से अपॉइंटमेंट लेकर मुलाकात की है।'


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget