पटोले नहीं, पाटिल के बयान को महत्व

स्वतंत्र चुनाव लड़ने के बयान पर प्रफुल्ल पटेल का तंज

praful patel

मुंबई 

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले के स्वतंत्र चुनाव लड़ने के बयान पर राकांपा प्रमुख शरद पवार के बाद राकांपा के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने निशाना साधा है। पटोले के स्वतंत्र चुनाव लड़ने वाले बयान का जवाब देते हुए पटेल ने कहा कि हम कांग्रेस महासचिव और प्रदेश प्रभारी एच.के. पाटिल के बयान को महत्व देते हैं, अन्य किसी नेता के बयान को नहीं। पाटिल कांग्रेस हाईकमान का प्रतिनिधित्व करते हैं। पटोले का बिना नाम लिए कटाक्ष करते हुए प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि उनको एक साइड में रखकर एच. के. पाटिल, राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, लोकनिर्माण मंत्री अशोक चव्हाण सहित राकांपा प्रमुख शरद पवार के बाद तीनों नेताओं ने मुख्यमंत्री से मुलाक़ात की। इसका क्या मतलब है, सबको मालुम है।

पटेल ने आगे कहा कि राज्य सरकार में शामिल तीनों पार्टियों को किसी ने बांधकर नहीं रखा है, तीनों के बीच महाविकास आघाड़ी है, जिन पार्टियों को संगठन के लिए जो करना है, वो कर सकते हैं। शरद पवार के प्रयास से महाविकास आघाड़ी की राज्य में सत्ता स्थापित हुई है। महाविकास आघाड़ी के विधायकों की नाराजगी की आ रही खबर पर उन्होंने कहा कि कोई विधायक नाराज नहीं है। महाविकास आघाड़ी में एक व्यक्ति विशेष कोई निर्णय नहीं ले सकता।

महामंडल का फार्मूला तय

राज्य में शिवसेना के नेतृत्व वाली महाविकास आघाड़ी की सत्ता स्थापित हुए करीब डेढ़ साल बीत चुके हैं, लेकिन अभी तक महामंडल बंटवारे को लेकर कोई निर्णय नहीं हुआ है, जिस पर प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि तीनों पार्टियों के बीच महामंडल बंटवारे का फार्मूला तय हो चुका है। जल्द से जल्द महामंडल की घोषणा की जा जाएगी। महामंडल और एनआईटी को लेकर फार्मूला तय हो चुका है।

दो गुट में बंटी कांग्रेस

आगामी चुनावों में स्वतंत्र चुनाव लड़ने की घोषणा करने वाले कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले पार्टी में ही अलग-थलग पड़ते नजर आ रहे हैं। एक तरफ जहां उनके बयान पर सहयोगी दल के नेता उनको निशाना बना रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ उनके ही पार्टी के मंत्री और नेता उनके बयान का समर्थन करने की बजाय विरोध करने में लगे हुए हैं। 

शुक्रवार को पटोले के अलग चुनाव लड़ने के बयान पर मदद पुनर्वसन मंत्री विजय वडेट्टीवार ने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए अभी तीन से साढ़े तीन साल बाकी हैं, इसलिए अलग चुनाव लड़ने वाले बयान को गंभीरता से लेने की आवश्यकता नहीं है।

वडेट्टीवार के इस बयान से स्पष्ट हो गया है कि पटोले के अलग चुनाव लड़ने वाले मुद्दे पर कांग्रेस दो गुटों में बंट गई है। पटोले का बिना नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी हाईकमान ने पटोले को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भेजा है, इसलिए वे अपना दायित्व निभाते हुए  संगठन को बढ़ाने का काम कर रहे हैं। महाविकास आघाड़ी सरकार स्थिर है, इसमें कोई मतभेद नहीं है। सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। विपक्ष बयान के अर्थ का अनर्थ निकालकर जनता को गुमराह कर रही है। यह पहला मौका नहीं जब कांग्रेस के किसी नेता ने पटोले के बयान से पल्ला झाड़ा है, इसके पहले राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात और अशोक चव्हाण के साथ प्रदेश प्रभारी एच.के. पाटिल भी पटोले के बयान से किनारा कर चुके हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget