उत्तराखंड में सियासी संकट

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने की इस्तीफे की पेशकश!

tirath singh rawat

देहरादून/ नई दिल्ली

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अपने पद से इस्तीफे की पेशकश कर दी है।  सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, उन्होंंने शुक्रवार को दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को इस्तीफे की पेशकश की है। फिलहाल उन्होंने देर शाम प्रेस कांफ्रेंस की जिसमें उन्होंने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं।   सीएम तीरथ सिंह रावत ने कहा कि राज्य में 20 हजार नई नियुक्तियां की जाएंगी। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल से कोरोना की वजह से अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा है। उत्तराखंड भी इससे अछूता नहीं रहा। जब उनसे इस्तीफे के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली। बता दें कि तीरथ सिंह रावत ने 10 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की थी। शपथ लेने के 115 दिन बाद दो जुलाई को  उन्होंने इस्तीफे की पेशकश की।

सूत्रों के अनुसार तीरथ सिंह रावत ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को दिए खत में कहा है कि वे जनप्रतिनिधि कानून की धारा 191 ए के तहत छह माह की तय अवधि में चुनकर नहीं आ सकते।  रावत ने कहा, 'मैं छह महीने के अंदर दोबारा नहीं चुना जा सकता। ये एक संवैधानिक बाध्यता है। इसलिए अब पार्टी के सामने मैं अब कोई संकट नहीं पैदा करना चाहता और मैं अपने पद से इस्तीफे की पेशकश कर रहा हूं। आप मेरी जगह किसी नए नेता का चुनाव कर लें।'   

आज विधायक दल की बैठक!

तीरथ सिंह रावत ने भले ही आधिकारिक रूप से इस्तीफे की घोषणा नहीं की है लेकिन भाजपा में नए मुख्यमंत्री के नाम पर मंथन शुरू हो गया है। शनिवार को विधायकों की बैठक बुलाई गई है। पर्यवेक्षक के तौर पर दिल्ली से नरेंद्र सिंह तोमर देहरादून पहुंचेंगे। उनकी मौजूदगी में नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगेगी। सभी विधायकों को देहरादून पहुंचने का संदेश दे दिया गया है।

फिलहाल यह तय है कि इस बार पिछली वाली गलती नहीं दोहराई जाएगी। किसी विधायक को ही इस बार सीएम बनाया जाएगा। कई विधायकों के नाम मुख्यमंत्री के तौर पर चल रहे हैं। इनमें सबसे आगे दो मंत्रियों के नाम चल रहे हैं। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget