पहली बार लंदन निर्यात हुई सबसे तीखी मिर्च


नई दिल्ली

अब लंदनवासी भी दुनिया की सबसे तीखी मिर्चों में से एक ‘राजा मिर्च’  के तीखापन से रूबरू होंगे। नगालैंड से राजा मिर्च की एक खेप पहली बार हवाई मार्ग से गुवाहाटी के रास्ते लंदन निर्यात की गई है। इस उपलब्धि को ट्विट करते हुए पीयूष गोयल ने लिखा है कि पूर्वोत्तर भारत की मिर्च का तीखापन, नागालैंड से चलकर, पहुंचा लंदन। इनके ट्वीट को पीएम मोदी ने भी रीट्वीट करते हुए लिखा है, अद्भुत खबर। भूत जोलोकिया खाने वालों को ही पता होगा कि यह कितना तीखा होता है!

राजा मिर्च सोलानेसी परिवार की शिमला मिर्च की प्रजाति से संबंधित है। इसे जैविक तरीके से उगाया जाता है और बेहद जल्दी खराब होती है, इसलिए ताजा किंग चिली का निर्यात एक चुनौती थी। खाने में रोजाना इस्तेमाल होने वाली हरी मिर्च का SHU (स्कोविल हीट यूनिट्स) 2500-5000 होता है, जबकि भूत जोलोकिया का तीखापन 1,041,427 SHU तक है। भूत जोलोकिया मिर्च की फसल चक्र छह महीने होती है। पौधे की ऊंचाई आमतौर पर 40 से 120 सेंटीमीटर तक होती है। मिर्च की चौड़ाई एक से 1.2 इंच तक होती है और लंबाई तीन इंच से भी ज्यादा हो सकती है। बुवाई के बाद महज 75 से 90 दिनों में पौधे पर मिर्च आने लगती है। भारत में भूत जोलोकिया मिर्च की खेती असम, नागालैंड और मणिपुर में होती है।

उत्तर-पूर्वी क्षेत्र से भौगोलिक संकेत (जीआई) उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए, नागालैंड से 'राजा मिर्च' की एक खेप को पहली बार हवाई मार्ग से गुवाहाटी के रास्ते लंदन निर्यात किया गया। इसे राज्य के पेरेन जिले के तेनिंग से मंगवाया गया था। नागा राजा मिर्च स्कोविल हीट यूनिट्स (एसएचयू) यानी तीखापन मापने के मानदंड के आधार पर दुनिया की सबसे तीखी मिर्च की सूची में टॉप-5 में लगातार बनी हुई है। 2007 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने राज मिर्च को दुनिया की सबसे तीखी मिर्च करार दिया था। हालांकि 2011 में इससे वह खिताब छिन गया। अभी दुनिया की सबसे तीखी मिर्च Carolina Reaper है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget