उद्योग क्षेत्र के लिए कोविड टास्क फोर्स

ठाकरे ने की उद्योगपतियों से बातचीत  ।  उत्पादन पर असर नहीं होने देंगे  

uddhav thackeray

मुंबई 

राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने निर्देश दिया है कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर की पृष्ठभूमि में राज्य के उद्योग क्षेत्र के लिए टॉस्क फोर्स का गठन किया जाना चाहिए और इसकी निगरानी मुख्यमंत्री सचिवालय के माध्यम से की जानी चाहिए। उन्होंने ऐसी व्यवस्था बनाने का निर्देश दिया कि कोरोना काल में आर्थिक गतिविधियां सुचारू रूप से चलती रही और उत्पादन में कोई बाधा न आए। ठाकरे ने कहा कि कोरोना काल में महाराष्ट्र को उत्पादन बंद किए बिना उद्योग शुरू रखने के लिए देश के सामने एक मिसाल कायम करनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से उद्योग मंडल सीआईआई (भारतीय उद्योग परिसंघ) के पदाधिकारियों से बातचीत में कोरोना की संभावित तीसरी लहर का मुकाबला करने के लिए ऑक्सीजन उत्पादन, स्टॉक का नियोजन, उद्योग में मजदूरों का सामूहिक टीकाकरण, प्रतिबंधों के बावजूद आर्थिक चक्र जारी रखना, उत्पादन पर असर नहीं होने देना, कंपनी परिसर में अस्थाई फील्ड आवास, काम के घंटे, बायो बबल आदि मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि आज राज्य में 1300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है। आने वाले समय में कोविड की चुनौती बढ़ी तो ऑक्सीजन की मांग दूसरी लहर की अपेक्षा अधिक होगी। ऐसे में ऑक्सीजन के उत्पादन के साथ ऑक्सीजन का बड़े पैमाने पर भंडारण की आवश्यकता है। इसके लिए टैंक और सिलेंडर की जरूरत होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्योगों में लगे मजदूरों, कर्मचारियों को बड़े पैमाने पर टीकाकरण करना चाहिए। फिलहाल निजी अस्पतालों के पास केंद्र द्वारा मुहैया कराई गई 25 लाख खुराक का स्टॉक है। इसका व्यापक उपयोग होना चाहिए। 

छोटे, बड़े उद्योगों में बायो-बबल सिस्टम बनाकर सुरक्षित उत्पादन बनाए रखा जाना चाहिए, जो कोविड से प्रभावित न हो। सख्त प्रतिबंधों के मामले में श्रमिकों के आवास कंपनी परिसर या आसपास फील्ड आवास स्थापित करने की योजना बनाई जानी चाहिए, ताकि उत्पादन प्रभावित न हो। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि काम की शिफ्ट इस तरह से सुनिश्चित की जाए कि किसी भी सुविधा पर भीड़भाड़ और तनाव न हो। पिछले साल कोरोना की पहली लहर में 20 लाख रोगी मिले थे। दूसरी लहर में महज दो से तीन माह में 40 लाख रोगी मिले। 

इस ऑनलाइन बैठक में सीआईआई के पदाधिकारी उदय कोटक, निरंजन हीरानंदानी, हर्ष गोयनका, सलील पारेख, नील रहेजा, अनंत गोयनका, बाबा कल्याणी, बी त्यागराजन, जेन करकेड़ा, अनंत सिंघानिया, बनमाली अग्रवाल, निखिल मेसवानी, अश्विनी यार्दी, राशेष शाह, केशव मुरुगेश, भारत पुरी, असीम चरनिया, सुनील माथुर, संजीव सिंह, नौशाद फोर्ब्स, डीके सेन, सुलज्जा फिरोदिया मोटवानी, शरद महिंद्रा और अन्य उद्योगपति मौजूद थे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget