मुंबई के अस्पतालों में खून की कमी


मुंबई

मुंबई के विभिन्न अस्पतालों के ब्लड बैंकों में सिर्फ 3200 यूनिट ब्लड बचा है। ब्लड की कमी से आगामी कुछ दिनों में मुंबई के अस्पतालों में होने वाले ऑपरेशन प्रभावित हो सकते हैं। राज्य रक्त संक्रमण परिषद के प्रभारी अध्यक्ष डॉ। अरुण थोरात ने सोमवार को पत्रकारों को बताया कि मुंबई में सिर्फ 3200 यूनिट रक्त इस समय है, जबकि समूचे राज्य में इस समय सिर्फ 22 हजार यूनिट रक्त उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि सामान्य दिनों में सूबे के ब्लड बैंकों में 50 हजार यूनिट ब्लड उपलब्ध रहा करता है। रक्त की इस तरह की कमी कोरोना की वजह से उत्पन्न हुई है। कोरोना रोधी टीका लगने के बाद 14 दिनों तक संबंधित व्यक्ति रक्तदान नहीं कर सकता है। साथ ही कोरोना संक्रमितों की संख्या कम होने के बाद सभी अस्पतालों में ऑपरेशन शुरू कर दिए गए हैं। इसी वजह से मुंबई सहित राज्य में ब्लड की कमी महसूस की जा रही है। डॉ। थोरात ने विभिन्न सामाजिक संस्थाओं को और जिन लोगों ने कोरोना रोधी टीका नहीं लिया है, उनसे रक्तदान के लिए शिविर आयोजित करने की अपील की है।

जे।जे। अस्पताल के प्रमुख डॉ। हितेश पगारे ने बताया कि रूटीन ऑपरेशन बढ़ने और रक्तदान में आई कमी की वजह से इस तरह की समस्या उत्पन्न हुई है। राज्य में प्रतिदिन साढ़े चार लाख से ज्यादा लोगों को कोरोना रोधी टीका लगाया जा रहा है। इसका असर भी रक्तदान पर पड़ा है। जे।जे। अस्पताल में प्रतिमाह 2500 यूनिट ब्लड लगता है, लेकिन इस समय सिर्फ 1500 यूनिट ब्लड उपलब्ध हो पा रहा है। डॉ। पगारे ने बताया कि थैलेसीमिया के मरीजों को सप्ताह में दो बार ब्लड बदलना पड़ता है। ब्लड की कमी की वजह से इन मरीजों को भी भारी दिक्कत हो रही है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget