धरती को आर्मागेडॉन से बचाएगा चीन

रॉकेट से करेगा हमला

asteroid

बीजिंग

धरती को बचाने का जिम्मा ले रहा है चीन। वह पृथ्वी को आर्मागेडॉन से बचाएगा। इसके लिए वह धरती की तरफ आ रहे एस्टेरॉयड पर अपने सबसे बड़े रॉकेट से हमला करेगा। ताकि एस्टेरॉयड की दिशा बदल जाए। इस तरह चीन पूरी धरती को अंतरिक्ष की आफत बचाने की योजना बना रहा है। धरती की तरफ एक बहुत बड़ा एस्टेरॉयड आ रहा है। ऐसी आशंका है कि यह धरती से टकरा सकता है। ऐसा हुआ तो धरती से जीवन समाप्त हो जाएगा, जैसे कि करोड़ों साल पहले डायनासोर मारे गए थे। इसलिए चीन की प्लानिंग है कि वह इस आफती एस्टेरॉयड पर 23 रॉकेटों से हमला करके उसकी दिशा बदल देगा, ताकि वह धरती के बगल से निकल जाए। 

77,500,000,000 किलोग्राम यानी 7750 करोड़ किलोग्राम वजनी है। अब आप ही सोचिए कि अगर इतना बड़ा एस्टेरॉयड अगर धरती से टकराता है तो क्या होगा। ये तो पूरी पृथ्वी पर प्रलय मच देगा। अगर धरती के करीब से भी तेजी से निकल गया तो भी बड़ी तबाही आने का अंदेशा बना रहेगा, क्योंकि इसकी गति और धरती की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के बीच जो संघर्ष होगा वह पृथ्वी पर प्रलय लाने के लिए काफी होगा।  

एस्टेरॉयड बेन्नू धरती की कक्षा में साल 2175 से 2199 के बीच आने की आशंका है। यानी ये घटना 154 साल से 178 साल के बीच होगी। वैसे तो इसके धरती से टकराने की आशंका 2700 में एक बार ही है, लेकिन वैज्ञानिक किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहते। यह एस्टेरॉयड अमेरिका के एंपायर स्टेट बिल्डिंग के आकार का है। इसकी ऊंचाई करीब 1454 फीट है। यानी इतना बड़ा और करोड़ों किलोग्राम वजनी एस्टेरॉयड अगर समुद्र में गिरा तो उससे उठने वाले पहली लहर ही पूरी दुनिया को समेट लेगी। एस्टेरॉयड बेन्नू अगर धरती से टकराता है तो वह करीब 1200 मेगाटन काइनेटिक ऊर्जा पैदा करेगा। व


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget