डिजिटल इंडिया यानि भ्रष्टाचार पर चोट

योजना के छह साल पूरे होने पर बोले पीएम मोदी


नई दिल्ली

डिजिटल इंडिया योजना को गुरुवार को छह साल पूरे हो गए। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। पीएम मोदी ने कार्यक्रम की शुरुआत में इस अभियान के तहत कई योजनाओं के लाभार्थियों के साथ संवाद किया और उनके अनुभवों को जाना। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डिजिटल इंडिया से आए परिवर्तन का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया ने भारत के सपनों को आगे बढ़ाया है और आम आदमी को लाभ पहुंचाया है। पीएम मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया यानि सबको अवसर, सबको सुविधा, सबकी भागीदारी और सरकारी तंत्र तक सबकी पहुंच है।

डिजिटल इंडिया भारत का संकल्प है

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया अभियान के छह साल पूरे होने पर बहुत बहुत शुभकामनाएं। आज का दिन भारत के सामर्थ, संकल्प को समर्पित है। आज का दिन याद दिला रहा है कि एक राष्ट्र के रूप में डिजिटल इंडिया के क्षेत्र में हमने कितनी ऊंची छलांग लगाई है। पीएम मोदी ने कहा कि देश में आज एक तरफ इनोवेशन का जूनून है, तो दूसरी तरफ उन इनोवेशन को तेजी से अपनाने करने का जज्बा भी है। इसलिए डिजिटल इंडिया भारत का संकल्प है, आत्मनिर्भर भारत की साधना है और 21वीं सदी में सशक्त होते भारत के जयघोष है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया यानि सबको अवसर, सबको सुविधा, सबकी भागीदारी। डिजिटल इंडिया यानि सरकारी तंत्र तक सबकी पहुंच। डिजिटल इंडिया यानि पारदर्शी, भेदभाव रहित व्यवस्था और भ्रष्टाचार पर चोट है। डिजिटल इंडिया यानि समय, श्रम और धन की बचत। डिजिटल इंडिया यानि तेज़ी से लाभ, पूरा लाभ। डिजिटल इंडिया यानि मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिम गवर्नेंस है। पीएम मोदी ने कहा कि ड्राइविंग लाइसेंस हो, बर्थ सर्टिफिकेट हो, बिजली का बिल भरना हो, पानी का बिल भरना हो, इनकम टैक्स रिटर्न भरना हो, इस तरह के अनेक कामों के लिए अब प्रक्रियाएं डिजिटल इंडिया की मदद से बहुत आसान, बहुत तेज हुई है और गांवों में तो ये सब, अब अपने घर के पास CSC सेंटर में भी हो रहा है।

किसानों के जीवन में डिजिटल लेनदेन से अभूतपूर्व परिवर्तन

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों के जीवन में भी डिजिटल लेनदेन से अभूतपूर्व परिवर्तन आया है। पीएम किसान सम्मान निधि के तहत 10 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों को एक लाख 35 करोड़ रुपए सीधे बैंक अकाउंट में जमा किए गए हैं। डिजिटल इंडिया ने वन नेशन, वन MSP की भावना को भी साकार किया है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ये दशक, डिजिटल टेक्नॉलॉजी में भारत की क्षमताओं को, ग्लोबल डिजिटल इकॉनॉमी में भारत की हिस्सेदारी को बहुत ज्यादा बढ़ाने वाला है। इसलिए बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स इस दशक को 'India’s Techade' के रूप में देख रहे हैं।

कोरोना काल में अभियान आया काम

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में डिजिटल इंडिया अभियान देश के कितना काम आया है, ये भी हम सभी ने देखा है। जिस समय बड़े-बड़े समृद्ध देश, लॉकडाउन के कारण अपने नागरिकों को सहायता राशि नहीं भेज पा रहे थे, भारत हजारों करोड़ रुपए, सीधे लोगों के बैंक खातों में भेज रहा था।

 उन्होंने कहा कि कल ही जीएसटी के चार वर्ष पूरे हुए हैं. कोरोना काल के बावजूद पिछले 8 महीने से लगातार जीएसटी रेवेन्यू एक लाख करोड़ रुपये के मार्क को पार कर रहा है. आज एक करोड़ 28 लाख रजिस्टर्ड उद्यमी इसका लाभ ले रहे हैं.

गरीब को राशन की डिलीवरी आसान की

पीएम मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया ने गरीब को मिलने वाले राशन की डिलीवरी को भी आसान किया है. ये डिजिटल इंडिया की ही शक्ति है कि वन नेशन-वन राशन कार्ड का संकल्प पूरा हो रहा है. अब दूसरे राज्य में जाने से नया राशन कार्ड नहीं बनाना होगा, एक ही राशन कार्ड पूरे देश में मान्य होगा. इसका सबसे बड़ा लाभ उन श्रमिक परिवारों को हो रहा है, जो काम के लिए दूसरे राज्यों में जाते हैं. 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget