बरेका तीसरी लहर से बचाव के लिए जिला प्रशासन के साथ

 महाप्रबंधक अंजलि गोयल ने केंद्रीय चिकित्सालय बरेका का किया निरीक्षण

वाराणसी

बनारस रेलइंजन कारखाना की महाप्रबंधक अंजलि गोयल ने केंद्रीय चिकित्सालय बरेका का निरीक्षण किया। उन्होंने इस दौरान वाराणसी में स्थापित 610 लीटर प्रति मिनट उत्पादन क्षमता वाले पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र की कार्यप्रणाली का अध्ययन किया। जिला प्रशासन के सहयोग से कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व निधि के अंतर्गत इस संयंत्र की स्थापना की गई है। इस संयंत्र की स्थापना से केंद्रीय चिकित्सालय, बरेका में ऑक्सीजन आपूर्तियुक्त बिस्तरों की संख्या 40 से बढ़कर 100 हो जाएगी। यह कोविड से निपटने की दिशा में एक उल्लेखनीय कदम है। 

महाप्रबंधक ने संभावित कोविड प्रभावित बच्चों के लिए विशेष बाल चिकित्सा वार्ड की तैयारियों की भी समीक्षा की। जिला प्रशासन की सलाह पर बरेका ने बच्चों के लिए 18 ऑक्सीजन बेड, छह आईसीयू बेड, सात बाइपेप मशीन और तीन हाई फ्लो नेजल कैनुला की व्यवस्था की। अतिरिक्त दवाओं और अन्य आवश्यक उपकरणों की खरीद कर ली गई है। ये सुविधाएं एक महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा है, क्योंकि बरेका चिकित्सालय के अंतर्गत बाल चिकित्सा आबादी लगभग 3600 है। वायरस की दूसरी लहर से निपटने के लिए बरेका ने वाराणसी, जिला प्रशासन के साथ समन्वय करते हुये अनेक ठोस उपाय किए। इसके अलावा एम्बुलेंस सेवाओं, दवाओं और ऑक्सीजन की निरंतर आपूर्ति ने बरेका चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की सुरक्षित घर वापसी सुनिश्चित की। जिला प्रशासन के अनुरोध पर कोविड आपात स्थिति से निपटने के लिए बरेका द्वारा होमी भाभा कैंसर अस्पताल को पांच वेंटिलेटर उपलब्ध कराये गए। ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र की स्थापना के लिए 420 लीटर क्षमता के दो एयर रिजर्वायर तथा 50 ऑक्सीजन सिलेंडर भी उपलब्ध कराए गए। सरकार के टीकाकरण के लक्ष्य को मिशन मोड में आगे बढ़ाते हुए, बरेका ने राज्य सरकार द्वारा आपूर्त किए गए कोविड वैक्सीन के सभी खुराकों का पूरी तरह से उपयोग किए जाने के लिए सभी उपाय किए। अब तक 50,000 से अधिक व्यक्तियों का टीकाकरण किया जा चुका है, जिनमें से बड़ा हिस्सा गैर-रेलवे नागरिकों की है। बरेका, काशी निवासियों के बीच सबसे अधिक मांग वाले टीकाकरण केंद्रों में से एक है। परीक्षण, पहचान एवं उपचार के मंत्र ने वृहद स्तर पर एवं समय से बरेका परिसर तथा बाहरी क्षेत्र के कोविड संक्रमित लोगों का पता लगाने में मदद की। परिसर क्षेत्र में स्थित दुकानों आदि में विशेष सघन अभियान चलाकर 1500 बिना लक्षण वाले व्यक्तियों की जांच की गई तथा संभावित कोविड प्रसारकों की पहचान कर कोविड की वृद्धि को रोका गया। दो महीने से अधिक समय तक अनवरत मरीजों को कोविड से बचाने और कोविड के बाद देखभाल सुनिश्चित करने के लिए बरेका मेडिकल टीम के समर्पित एवं गहन प्रयासों की महाप्रबंधक ने बरेका ने प्रशंसा की।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget