सुमित नागल ने रचा इतिहास

लिएंडर पेस के बाद ओ​लिंपिक में सिंगल्स मैच जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी

sumit nagal

झज्जर

झज्जर के टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल ने इतिहास रच दिया है। गांव जैतपुर के छोरे सुमित नागल ने टोक्यो ओलिंपिक में उज्बेकिस्तान के डिनेस इस्तोमिन को हराकर दूसरे राउंड में प्रवेश कर लिया है। सुमित नागल का अगला मुकाबला रैंकिंग में 2 नंबर की वरीयता रखने वाले खिलाड़ी डेनियल मेदवेदेव से होगा। इस जीत के साथ, नागल 1996 में लिएंडर पेस के बाद ओ​िलंपिक में एकल मैच जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। हालांकि करीब तीन घंटे तक चले इस मैच को सुमित का परिवार टीवी पर नहीं देख पाया। पिता सुरेश नागल के मुताबिक इस मैच का प्रसारण टीवी पर नहीं हो रहा हैं। ऐसी स्थिति में उन्होंने इंटरनेट से अपडेट लेते हुए मैच से जुड़ाव बनाए रखा। उमस भरे माहौल में करीब घंटे तक चले इस मैच में नागल के बहादुरी भरे खेल की बदौलत यह जीत हासिल हुई है। शुक्रवार से शुरू हुए टोक्यो ओलिंपिक में हरियाणा के 31 खिलाड़ियों का दल हिस्सा ले रहा हैं, जिसमें सुमित नागल भी शामिल हैं। आखिरी दिनों में वे सीधा जर्मनी से टोक्यो पहुंचे और पहले मुकाबले में ही शानदार प्रदर्शन के बूते प्रदेश का नाम विश्व भर में रोशन किया है। इधर सुरेश नागल ने बताया कि मैच को सीधे टीवी पर नहीं देख पाने का उन्हें बहुत मलाल है। सुमित के लिए कोई विशेष पूजा अर्चना किए जाने से जुड़े सवाल पर कहा कि वह पिछले करीब सात साल से जर्मनी में रह रहा है। संस्कारों की बात हो तो सुमित का परिवार से खासा जुड़ाव है। पूजा अर्चना के लिए तो बस रोजाना हवन किया जाता है। वह भी सर्व मंगल की कामना के लिए। इसके अतिरिक्त कुछ विशेष नहीं। मां के हाथ का खाना तो सुमित बहुत ज्यादा मिस करता है। 

उमस से परेशान हो रहे सुमित

सुमित के पिता के मुताबिक टोक्यो में उमस हद से ज्यादा है। चूंकि राउंड काफी लंबा चलता है। ऐसे में खिलाड़ियों को दिक्कत होना लाजिमी है। पिछली दो-तीन दफा जब भी सुमित से बात हुई तो सामने आया कि उमस हद से ज्यादा होने की वजह से अभ्यास के दौरान भी दिक्कत होती है। पहले राउंड की जीत के बाद बेशक ही सुमित का मनोबल बढ़ेगा। होने वाला दूसरे राउंड का मैच भी काफी टफ है। देश के लोगों की दुवाओं से जरूर सुमित बेहतर प्रदर्शन करेगा। ऐसा पूरे परिवार को विश्वास है।

गांव में भी बना खुशी का माहौल

सुमित के पहले मैच का हर किसी को बेसब्री से इंतजार था। गांव में भी सुमित की जीत के बाद खुशी का माहौल है। क्योंकि मैच का सीधा प्रसारण नहीं हो रहा। इसलिए वे देख तो नहीं पाए। लेकिन फोन के माध्यम से रिजल्ट जरूर पूछते रहे। सुमित नागल के भाई नरेंद्र ने कहा कि हम सभी को पूरा विश्वास है कि वह मेडल जरूर जीतकर आएगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget