बसपा के पूर्व सांसद दाऊद अहमद पर कसा शिकंजा

100 करोड़ की इमारत पर चला बुलडोजर

लखनऊ

सीएम योगी सरकार अवैध निर्माण के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। इसी क्रम में रविवार को केंद्रीय संरक्षित स्मारक रेजीडेंसी के विनियमित क्षेत्र में अवैध अपार्टमेंट बनाना पूर्व सांसद दाऊद अहमद को भारी पड़ा है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने तीन जुलाई को इसे ध्वस्त करने का आदेश पारित किया था, जिसके बाद रविवार सुबह जिला प्रशासन ने इसे गिराने का काम शुरू करा दिया। दोपहर तक बिल्डिंग का आगे का बड़ा हिस्सा क्षतिग्रस्त कर दिया गया। 

बिल्डिंग करीब 20 करोड़ की लागत से बनी है। पूर्व सांसद दाऊद अहमद ने रिवर बैंक कॉलोनी के पीछे एफ ब्लॉक में हाफिज डेयरी के सामने अवैध तरीके से 6 मंजिला अपार्टमेंट खड़ा कर लिया। इसका निर्माण केंद्रीय संरक्षित स्मारक रेजिडेंसी बिल्डिंग के विनियमित क्षेत्र में किया गया। पुरातत्व विभाग ने इसका निर्माण रोकने के लिए काफी प्रयास किया। एलडीए, लखनऊ के डीएम तथा कमिश्नर सहित तमाम अधिकारियों को पत्र लिखे। लेकिन किसी ने निर्माण नहीं रुकवाया। इससे 6 मंजिला इमारत खड़ी हो गयी। सुनवाई न हुई तब केंद्र सरकार के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को निर्णय लेना पड़ा। पुरातत्व विभाग के संयुक्त महानिदेशक ने 3 जुलाई 2021 हो इसे ध्वस्त करने का आदेश पारित किया। 

4 जुलाई को जिला प्रशासन तथा पुरातत्व विभाग की टीम ने इसे गिराने में लग गयी। इसमें एलडीए की भी मदद ली गई। दोपहर तक बिल्डिंग के बाहरी हिस्से को काफी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि इसे इस तरह क्षतिग्रस्त कर दिया जाएगा, ताकि भविष्य में उपयोग लायक न रहे।

डीएम को 15 दिनों में ध्वस्त करने का आदेश दिया तो हरकत में आया प्रशासन

केंद्र सरकार के संयुक्त महानिदेशक ने 3 जुलाई के इसे ध्वस्त करने के आदेश का अनुपालन कराने के लिए जिला अधिकारी को जिम्मेदारी दी। उन्होंने लखनऊ के जिलाधिकारी को इसका आदेश भेजा। 15 दिनों में गिराकर अवगत कराने को कहा। जिसके बाद कार्रवाई शुरू हुई।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget