घरेलू बिजली ग्राहकों के मीटर होंगे स्मार्ट

प्रीपेड-पोस्टपेड रूप में होंगे उपलब्ध  |  खपत को नियंत्रित करना होगा आसान  


मुंबई 

अब सिम कार्ड की तरह घरेलू बिजली ग्राहकों के मीटर प्रीपेड और पोस्टपेड होंगे। पोस्टपेड मीटर में बिजली की खपत के अनुसार बिल आएगा, जबकि प्रीपेड में जमा राशि के हिसाब से बिजली का इस्तेमाल किया जा सकेगा। दरअसल घरेलू बिजली उपभोक्ताओं की मीटर रीडिंग के संबंध में हमेशा शिकायत बनी रहती है। इसके समाधान के रूप में अब घरेलू ग्राहकों को स्मार्ट मीटर प्रदान किए जाएंगे। ऊर्जा मंत्री डॉ. नितिन राऊत ने मुंबई महानगर परिसर, नागपुर, ठाणे, औरंगाबाद जैसे महानगरों में प्राथमिक स्तर पर स्मार्ट मीटर लगाने के निर्देश दिए हैं। मंत्रालय में स्मार्ट मीटर योजना को लेकर आयोजित बैठक में ऊर्जा मंत्री ने ये निर्देश दिए। सरकार राज्य में घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को जल्द ही अत्याधुनिक स्मार्ट मीटर उपलब्ध कराने के लिए कदम उठा रही है। इसके लिए जारी टेंडर में हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार संशोधन करने के निर्देश भी डॉ. राउत ने दिए।

स्मार्ट मीटर के फायदे

मोबाइल सिम कार्ड की तरह ये स्मार्ट मीटर प्रीपेड और पोस्टपेड रूप में उपलब्ध होंगे। इससे ग्राहक अपनी बिजली की खपत को नियंत्रित कर सकेंगे। पोस्टपेड में बिजली की खपत के हिसाब से बिजली बिल आएगा, जबकि प्रीपेड में जमा राशि के हिसाब से बिजली का इस्तेमाल किया जा सकेगा।

इससे बिजली बचाने में मदद मिलेगी। स्मार्ट मीटर से बिजली बिल पूरी तरह बिना गलती के दिए जाएंगे। मीटर से छेड़खानी या किसी ने बिजली चोरी की कोशिश की तो इसका पता मुख्यालय में चल जाएगा और उसे रोकना संभव होगा। इससे बिजली चोरी पर अंकुश लगेगा। यह कम से कम बिजली के उपयोग को भी प्रोत्साहित करेगा। स्मार्ट मीटर से जानकारियों का आदान-प्रदान और पावर लोड प्रबंधन में कम से कम समय लगेगा। ग्रिड को स्मार्ट तरीके से प्रबंधित करना संभव है। मीटर को दूर से चालू या बंद किया जा सकता है जो लागत को नियंत्रित करेगा। साथ ही मीटर में रखे डाटा को दूर बैठकर मुख्यालय पर जांच के लिए ले जाया जा सकता है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget