ममता की मोर्चाबंदी

mamta banerjee

नई दिल्ली

देश में इजराइली सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए जासूसी के खुलासे के बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने इसकी जांच कराने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को इसके लिए एक कमीशन बनाया है। कोलकाता हाईकोर्ट के जस्टिस मदन भीमराव और पूर्व चीफ जस्टिस ज्योतिर्मय भट्‌टाचार्य को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। भारत सरकार मामले की जांच कराने से इनकार कर चुकी है। दुनिया में फ्रांस इकलौता देश है, जो जासूसी कांड की जांच करा रहा है। ममता ने कहा कि बंगाल पहला राज्य बन गया है, जो जासूसी कांड की जांच करेगा। हमें उम्मीद थी कि केंद्र इस मामले में कोई सख्त कार्रवाई करेगा या सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ममता बनर्जी पांच दिनों के दौरे पर सोमवार शाम करीब 5.30 बजे दिल्ली पहुंची। वे यहां विपक्ष के नेताओं से मुलाकात करेंगी। बंगाल CM की इस कवायद को भाजपा के खिलाफ शक्तिशाली मोर्चा बनाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। ममता ने अपने दिल्ली दौरे की जानकारी खुद 22 जुलाई को दी थी। ममता ने कहा था, 'अगर राष्ट्रपति से वक्त मिला तो उनसे मुलाकात करूंगी। प्रधानमंत्री से 28 जुलाई को मिलने का समय मिला है।'


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget