सितंबर से नवंबर के बीच कोरोना की तीसरी लहर

विशेषज्ञों की सलाह पर तैयारी में जुटी सरकार

पटना 

बिहार में कोरोना की तीसरी लहर सितंबर से नवंबर के बीच आने की आशंका है। हालांकि इसको लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञ में मतभिन्नता है। यूनिसेफ, बिहार के स्वास्थ्य विशेषज्ञ के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर के आने में वायरस के संक्रमण के विस्तार के अतिरिक्त मानवीय व्यवहार भी काफी उत्तरदायी होगा। कोरोना संबंधी नियमों के पालन किए जाने से इसे टाला जा सकता है अन्यथा यह जल्द ही बिहार को अपनी गिरफ्त में ले लेगा। वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग कोरोना की तीसरी लहर के सितंबर के बाद सामने आने की आशंका को लेकर तैयारियों में जुटा है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार इसके अनुसार अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से लेकर जिला अस्पतालों तक में ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर सहित अन्य आवश्यक उपकरणों को लगाया जा रहा है। वहीं राज्य के छह जिलों में कराए गए सीरो सर्वे के परिणाम जुलाई के अंतिम सप्ताह में आने की संभावना है। राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट के सहयोग से किए गए सीरो सर्वे के तहत राज्य से तीन हजार सैंपल एकत्र किए गए हैं। इनमें पहली बार छह वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को भी शामिल किया गया है। सूत्रों ने बताया कि सभी एकत्र किए गए सैंपल को केंद्र सरकार के निर्देशानुसार केंद्रीय लैब में जांच के लिए चेन्नई भेज दिया गया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget