मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में समन्वय समिति की बैठक

बैठक में हुई कई मुद्दों पर चर्चा

uddhav thackeray

मुंबई

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा लिखे गए मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे को पत्र को लेकर महाविकास आघाड़ी सरकार की समन्वय समिति की बैठक आयोजित की गई। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में वर्षा बंगले पर बुलाई गई बैठक में उपमुख्यमंत्री अजित पवार, मानसून सत्र के साथ ही विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव को लेकर रणनीति के तहत चर्चा की गई। 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर सीबीआई और ईडी द्वारा की जा रही कार्रवाई, चंद्रकांत पाटिल द्वारा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर अजित पवार और अन्य मंत्रियों की सीबीआई जांच की मांग से सरकार की चिंता बढ़ गई है, जिसे लेकर आयोजित समन्वय समिति की बैठक में इस मुद्दे पर गंभीरता से चर्चा की गई। 

बैठक में क्या हुआ ?

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बुलाई गई समन्वय समिति की बैठक में 100 करोड़ रुपए वसूली मामले, विधानसभा अध्यक्ष चुनाव, ओबीसी समाज आरक्षण के साथ कई अन्य मुद्दों पर हुई। विपक्ष के आक्रमण से कैसे निपटा जाए इसको लेकर गंभीरता से चर्चा की गई। सरकार में समन्वय की कमी है, जिसका विपक्ष बार-बार आलोचना करती रही है। विपक्ष विभिन्न मुद्दों पर सरकार पर निशाना साध रहा है।  समन्वय समिति की बैठक में राज्य के नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे, कांग्रेस की तरफ से राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात उपस्थित थे।

छह जुलाई को विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव : थोरात 

बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने बताया कि विधानसभा अध्यक्ष पद को लेकर महाविकास आघाड़ी के बीच निर्णय हो चुका है। निर्णय के अनुसार पांच जुलाई  से शुरू होने मानसून सत्र के दूसरे दिन छह जुलाई को विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव तय हुआ है। थोरात ने कहा कि सत्ताधारी के पास पर्याप्त बहुमत है, इसलिए अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार का चयन सर्वसम्मति से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राकांपा प्रमुख शरद पवार महाविकास आघाड़ी सरकार के मार्गदर्शक हैं, इसलिए उनकी सलाह सरकार के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी के घटक दलों में कोई मतभेद नहीं है। सूत्रों के अनुसार विधानसभा अध्यक्ष के लिए संग्राम थोपटे का नाम आगे चल रहा है।  

फड़नवीस से चंद्रकांत पाटिल ने की मुलाकात 

एक तरफ जहां सत्ताधारियों की समन्वय समिति की बैठक आयोजित की गई, तो वहीं दूसरी तरफ भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने  विपक्ष नेता देवेंद्र फड़नवीस से मुलाक़ात की। फड़नवीस के सरकारी आवास सागर बंगले पर हुई दोनों नेताओं की बैठक में राज्य की राजनीतिक परिस्थिति के अलावा पांच जुलाई से शुरू होने वाले मानसून सत्र में सरकार को घेरने के लिए चर्चा हुई। सूत्रों का कहना है  कि भ्रष्टाचार के मामले में सरकार घिरती जा रही है, जिसे और जोर देने के लिए क्या रणनीति बनाई जाय, इसको लेकर फड़नवीस और पाटिल के बीच चर्चा हुई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार को देवेंद्र फड़नवीस दिल्ली दौरे पर थे, जहां उन्होंने पार्टी हाईकमान से मिलकर राज्य की राजनितिक परिस्थिति के साथ -साथ महाविकास आघाड़ी सरकार में चल रही मतभेद को लेकर जानकारी दी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget