डूबी-सम्पत्तियों का बैंक बनाने को RBI के पास आवेदन करेगा IBA


नई दिल्ली

इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आईबीए) जल्द रिजर्व बैंक के पास 6,000 करोड़ रुपए की पूंजी की प्रस्तावित पूंजी के साथ राष्ट्रीय संपत्ति पुनर्गठन कंपनी लि. (एनएआरसीएल) या बैड बैंक (डूबी-सम्पत्तियों का बैंक) के गठन के लिए आवेदन करेगा। प्रारंभ में 100 करोड़ रुपए की पूंजी डालने की प्रक्रिया की है। आईबीए को कंपनी पंजीयक से इसके लिए लाइसेंस मिल चुका है। सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने कहा कि कंपनी के पंजीकरण के बाद 100 करोड़ रुपए की शुरुआती पूंजी डालने की प्रक्रिया दिशा-निर्देश के तहत की जा रही है। इसका अगला कदम ऑडिट का होगा। उसके बाद आईबीए संपत्ति पुनर्गठन कंपनी के लिए लाइसेंस को रिजर्व बैंक के पास आवेदन करेगा। रिजर्व बैंक ने 2017 में पूंजी की अनिवार्यता को दो करोड़ रुपए से बढ़ाकर 100 करोड़ रुपए कर दिया था। केंद्रीय बैंक का मानना है कि डूबे कर्ज को खरीदने के लिए कहीं अधिक राशि की जरूरत होती है। कानूनी सलाहकार एजेडबी एंड पार्टनर्स की सेवाएं विभिन्न नियामकीय मंजूरियां हासिल करने के लिए ली गई हैं। साथ ही यह अन्य कानूनी औपचारिकताओं को भी पूरा करेगी। 

सूत्रों ने कहा कि इसके लिए शुरुआती पूंजी आठ बैंक डालेंगे। इन बैंकों ने इसके लिए प्रतिबद्धता जताई है। रिजर्व बैंक की मंजूरी के बाद एनएआरसीएल अपनी पूंजी का आधार बढ़ाकर 6,000 करोड़ रुपए करेगी। सूत्रों ने बताया कि रिजर्व बैंक की मंजूरी के बाद अन्य इक्विटी भागीदार इससे जुड़ेंगे। यहां तक कि इसके निदेशक मंडल का भी विस्तार किया जाएगा। आईबीए को बैड बैंक के गठन की जिम्मेदारी दी गई है। एनएआरसीएल का शुरुआती बोर्ड का गठन हो चुका है। 

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget