मुंबई में जुलाई में केवल 12 हजार मिले कोरोना के मरीज


मुंबई

कोरोना से जूझ रहे मुंबईकरों के लिए जुलाई महीना राहत देने वाला रहा। इसके बावजूद  राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार मुंबई के लोगों को अधिक राहत देने के मूड में नहीं है। फरवरी में आई कोरोना की दूसरी लहर के बाद छह महीने में सबसे कम 12 हजार 563 कोरोना के नए केस जुलाई में मिले, जबकि अप्रैल में सर्वाधिक 2 लाख 33 हजार 910 मरीज मिले थे। इतना ही नहीं मार्च में गिरकर 49 दिन तक पहुंचा कोरोना का डबलिंग रेट जुलाई आखिरी में 1450 दिन तक पहुंच गया। जो यह साबित करता है कि बीएमसी ने दूसरी लहर का सफलतापूर्वक सामना किया है। 

मुंबई में फरवरी 2021 में कोरोना की दूसरी लहर आई। उसके बाद लगातार मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ। प्रतिदिन 11 हजार से 9 हजार के बीच केस आने लगे, जिससे मनपा की मुश्किल बढ़ गई। दूसरी लहर को रोकने के लिए मनपा ने पूरी ताकत झोंक दी। इसके बावजूद प्रतिदिन मरीजों की संख्या बढ़ती रही। फरवरी में मुंबई में 16946 कोरोना के मरीज मिले। मार्च में यह संख्या बढ़कर 88,799 तक पहुंच गई। दूसरी लहर में अप्रैल का महीना काफी मुश्किलों भरा रहा। इस महीने कुल 233910 कोरोना के नए मरीज पाए गए। मई से इसमें गिरावट आनी शुरू हुई। मई में मरीजों की संख्या 57627 रही, जबकि जून में गिरकर 15967 पर आ गई। जुलाई में बीएमसी ने दूसरी लहर पर पूरी तरह से काबू पा लिया। इस महीने मुंबई में सिर्फ 12563 कोरोना के नए केस सामने आए।

मनपा  अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा कि दूसरी लहर पर काबू करना ज्यादा चुनौतीपूर्ण था। क्योंकि इस दौरान क्रिटिकल मरीजों की संख्या ज्यादा थी, उन्हें ऑक्सीजन बेड व वेंटिलेटर की ज्यादा जरूरत थी, लेकिन मनपा  ने तत्परता दिखाते हुए सभी इंतजाम किए। उसी का नतीजा था कि हम आज इस स्थिति में हैं। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget