राज्य में ब्लैक फंगस के 1,768 एक्टिव मरीज

मुंबई

कोविड से ग्रसित हो कर ठीक होने के बाद कुछ लोग ब्लैक फंगस जैसे जानलेवा बीमारी से ग्रसित हुए। राज्य में अब भी 1768 लोग उक्त बीमारी ग्रस्त हैं और विभिन्न अस्पतालों में उपचार ले रहे हैं। वहीं राज्य के अन्य जिलों की तुलना में मुंबई में सबसे अधिक लोगों की मौत ब्लैक फंगस के कारण हुई है। हालांकि इसमें से कई मरीज अन्य जिलों से मुंबई में इलाज के लिए आते है। राज्य में अब तक ब्लैक फंगस से 10,020 लोग ग्रसित हुए हैं। इसमें से 6,746 लोग ठीक हो गए हैं, जबकि 1,379 लोगों की मौत हो चुकी है। अन्य जिलों की तुलना में जहां पुणे में 184 और मुंबई में 178 लोगों की मौत हुई है।

मुंबई में एक्टिव केसेस बढ़े

मुंबई में ब्लैक फंगस के अबतक कुल 918 केस रिपोर्ट हुए हैं। इसमें से 551 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 178 मरीजों की मौत हो चुकी है। मुंबई में फिलहाल 189 एक्टिव मरीज हैं, जिनका उपचार मनपा के अस्पतालों में चल रहा है। एक्टिव केस की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है, क्योंकि 21 जून को एक्टिव मरीजों की संख्या 169 थी।

ब्लैक के टॉप 5 जिले

ब्लैक फंगस से नागपुर के वासियों के नाक में दम किया है। उक्त जिले में ब्लैक फंगस के सबसे अधिक मरीज 1536 रिपोर्ट हुए हैं। उसके बाद पुणे में 1351, औरंगाबाद में 1118, मुंबई में 918 और नाशिक में 760 केस रिपोर्ट हुए हैं।

यहां हुई सबसे ज्यादा मौत

पुणे- 184, मुंबई- 178, नागपुर- 158, औरंगाबाद- 114, सोलापुर- 94, 

यहां है सबसे अधिक एक्टिव केस

नागपुर- 470, पुणे- 306, औरंगाबाद- 229, मुंबई- 189, ठाणे- 91

इतनों ने लिए ‘लामा’

राज्य में ब्लैक फंगस के 189 ऐसे मरीज है,जिन्होंने लीव अगेंस्ट मेडिकल एडवाइस (लामा) लिया है। यानी मरीज या उसके परिवार डॉक्टरों के ना बोलने के बावजूद मरीज को अस्पताल से या तो डिस्चार्ज करा लिया या फिर सरकारी अस्पताल के इलाज से नाखुश कई लोग प्राइवेट अस्पताल में शिफ्ट हो गए हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget