अफगानिस्तान में तालिबान राज !

हिंसा रोकने को सरकार ने दिया साझेदारी का प्रस्ताव

taliban

काबुल

तालिबान ने अब अफगानिस्तान के गजनी शहर पर भी अपना कब्जा जमा लिया है। यह शहर अफगानिस्तान की  राजधानी काबुल से महज 150 किलोमीटर की दूरी पर है।  माना जा रहा है कि अफगानिस्तान सरकार का हौसला पस्त हो गया है और उसे तालिबान के आगे आत्मसमर्पण के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। फिलहाल तालिबान लड़ाकों और अफगान सेना के बीच जंग जारी है। गजनी दसवीं राजधानी है, जिसे तालिबान ने इस सप्ताह अपने कब्जे में लिया है। इससे अफगानिस्तान में लगातार राजनीतिक हालात  खराब हो रहे हैं। इसको देखते हुए अमेरिका की चिंता भी बढ़ गई है। इसके बाद से ही अफगानिस्तान सरकार ने सुलह की कोशिशें शुरू कर दी हैं। कतर में तालिबानियों से बातचीत कर रहे सरकारी अधिकारियों ने जंग खत्म करने के  ल िए सत्ता साझा करने का प्रस्ताव दिया है। 

तालिबान को पाक आतंकियों का समर्थन: भारत

विदेश मंत्रालय ने अफगानिस्तान में हो रही हिंसा के पीछे पाकिस्तान से मिल रहे समर्थन को जिम्मेदार ठहराया है। मंत्रालय ने कहा है-दुनिया को पता है तालिबान को पाकिस्तान के जिहादियों और आतंकवादियों का समर्थन मिल रहा है। दुनिया इससे वाकिफ है और ये बताने की जरूरत नहीं। हम बिगड़ती सुरक्षा स्थिति को लेकर चिंतित हैं। काबुल में हमारे मिशन ने इस सप्ताह की शुरुआत में भारतीय नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की, जिसमें उन्हें कमर्शियल फ्लाइट्स से भारत लौटने की सलाह दी गई है। काबुल में भारत का दूतावास बंद नहीं हो रहा है। इस तरह की रिपोर्ट काल्पनिक है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget