एफडीए की जांच: कई कंपनियों की शहद में मिलावट


मुंबई 

अन्न व औषधि प्रशासन (एफडीए) द्वारा एक के बाद एक लगातार कार्रवाई जारी है। मास्क और गंदे तेल के बाद अब निकृष्ट दर्जे की शहद (हनी) बेचने वालों पर एफ़डीए प्रशासन ने कार्रवाई शुरू कर दी है। इसी कर्रवाई में 3480.25 किलो शहद जब्त किया है, जिसकी कीमत करीब 36 लाख रुपए है। एफ़डीए प्रशासन ने कई कंपनियों पर कार्रवाई करते हुए यह जब्ती की है। खाद्य पदार्थों में होने वाली मिलावट और निकृष्ट दर्जे का सामान बेचने वालों पर कर्रवाई करने में एफडीए प्रशासन अधिक तीव्र हो गई है। पहले अधिक कीमत में मास्क बेचने वालों पर कार्रवाई करने के बाद, खाने के तेल में होने वाली मिलावट के खिलाफ एफडीए प्रशासन की लगातार कार्रवाई जारी थी। अब निकृष्ट दर्जे का शहद बनाने वालों पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है। एफ़डीए प्रशासन ने मुंबई में कार्रवाई करते हुए करीब 36 लाख का मिलावटी शहद जब्त किया है। एफडीए की कार्रवाई में झंडु, डाबर, पतंजलि, सफोला, उत्तराखंड हनी , बैद्यनाथ, डिलीव, अपीस हिमालया, हमदर्द नेचुरल ब्लॉसम, श्री श्री तत्व वैद्यनाथ, व्टिग्ज, चौबीस मंत्रा ऑरगॅनिक, मधुपुष्प, मधुबन, लुज, फोंडाघाट, रिलायन्स हेल्दी लाईफ, अंडर द मैगो ट्री, रसना, ऑरगॅनिक सर्टिफाइड हनी, हिमालया  ब्रांड के शहद के नमूने जब्त कर इनकी टेस्टिंग की गई। टेस्टिंग के बाद ये सभी दिए गए क्राइटेरिये पर खरे नहीं उतरे। सब में कुछ न कुछ कमी मिला। जानकारी के मुताबिक कुल 86 नमूने जांच के लिए जब्त किए गए थे, जबकि 3 हजार 480 ग्राम शहद जब्त किया गया है। अधिकारियों को शहद में मिलावट की जानकारी मिली थी, जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है। जब्त किए गए शहद का एनएमआर टेस्ट किया गया, जिसमें मेनोज, मेलटोस और मेटोत्रियोस नामक शक्कर की मिलावट होने की जानकारी सामने आई। प्राकृतिक शहद में मिलावट की जानकारी सामने आने के बाद आगे की कार्रवाई जारी है। मानव शरीर पर इसका दुष्परिणाम भी पड़ता है। एफडीए अधिकारियों को निकृष्ट दर्जे का होने का शक हुआ। जिसके बाद शहद जब्त कर लिया गया। जब्त किए गए इस शहद की कीमत 36 लाख 19 हजार 319 रुपए है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget