परमबीर के खिलाफ चौथा केस

parambir singh

मुंबई

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। परमबीर सिंह के खिलाफ वसूली के मामले में चौथा केस दर्ज किया गया है। शुक्रवार रात गोरेगांव पुलिस थाने में यह केस दर्ज किया गया। बिमल अग्रवाल नाम के व्यापारी ने जनवरी 2020 से मार्च 2021 के बीच परमबीर सिंह पर 9 लाख रुपए की वसूली का आरोप लगाया है। इसके अलावा सैमसंग के दो महंगे फोन यानी कुल 11 लाख 92 हजार रुपए की वसूली की शिकायत दर्ज करवाई है। परमबीर सेिंह के अलावा इस मामले में बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वझे का नाम भी शामिल है। परमबीर सिंह और सचिन वजे के अलावा सुमित सिंह, अल्पेश पटेल के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। इन पर IPC की धारा 384,385 और 34 के तहत केस दर्ज किया गया है।

‘परमबीर ने सचिव वझे को हर दिन दो करोड़ का टारगेट दिया’

गोरेगांव स्थित बिमल अग्रवाल ने सचिन वझे और परमबीर सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा है पुलिस सेवा में फिर से बहाल होने से पहले सस्पेंड पुलिस अधिकारी सचिन वझे ने वसूली के लिए व्यापारियों और बुकियों के साथ मीटिंग शुरू की थी। सचिन वझे को हर रोज दो करोड़ रुपए की वसूली का टारगेट दिया गया था।

अपनी शिकायत में ब्यापारी ने कहा है, ” जनवरी-फरवरी 2020 में पुलिस अधिकारी सचिन वझे मेरे मालाड स्थित ऑफिस में आए, उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे खास बॉस परमबीर सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर बन कर आ रहे हैं। तुम अपने होटल का व्यापार फिर से शुरू करो। आगे सचिन वझे ने कहा कि कलेक्शन का काम उन्हें दिया गया है। वे इस काम में मुझे सेटअप करने की बात कर रहे थे। उस वक्त हमलोगों का (जिसमें मेरे दोस्त अनिकेत पाटील और उसके अन्य पार्टनर शामिल थे) गोरेगांव पुलिस स्टेशन की सीमा में BOHO बार एंड रेस्टॉरेंट था। उसे और अंधेरी ओशिवरा में BCB रेस्टॉरेंट और बार चालू करने के लिए सचिन वझे और उनके सहयोगियों ने मुझसे नौ लाख रुपए और सैमसंग कंपनी के फोल्ड दो मोबाइल हफ्ते के नाम पर वसूले।”


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget