तालिबान का आतंक काबुल में कोहराम

अफगानिस्तान बना आतंकिस्तान


काबुल

अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हो गया है। देश में अफरा-तफरी का माहौल है। राष्ट्रपति अशरफ गनी और उप-राष्ट्रपति 

अमीरुल्लाह सालेह देश छोड़कर भाग चुके हैं। राष्ट्रपति भवन पर तालिबानी लड़ाके तैनात हैं। एयरपोर्ट के रनवे पर हजारों लोग इस उम्मीद में इधर-उधर भाग रहे हैं कि शायद किसी फ्लाइट में जगह मिल जाए और वे देश छोड़ दें।

तालिबान ने काबुल, कंधार और मजार-ए-शरीफ जैसे बड़े शहरों में हर चौराहे पर चेकपोस्ट बना दी है। इन पर तालिबानी लड़ाके तैनात हैं, जो यहां से गुजरने वाले हर शख्स की तलाशी लेने के बाद ही उसे आगे जाने दे रहे हैं। सड़कों पर बख्तरबंद गाड़ियां, कार और बस हर कहीं चलती नजर आ रही हैं। तालिबान के लड़ाके खुली जीप में सड़कों पर जीत का जश्न मना रहे हैं। इन सब के बीच अफगानिस्तान के आम लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर जाएं तो कहां जाएं। 

काबुल शहर के आसमान में उड़ते प्लेन से गिरते लोगों का वीडियो भी सामने आया है। इसमें एक के बाद एक तीन लोग नीचे गिरते दिखाई दे रहे हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि देश छोड़ने के लिए ये लोग मिलिट्री प्लेन के टायरों के बीच में खड़े हो गए थे। काबुल एयरपोर्ट से टेक ऑफ करने के बाद जैसे ही प्लेन हवा में पहुंचा, ये लोग एक-एक कर नीचे गिरने लगे।  

भारतीयों को निकालने की कोशिश तेज

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हम वहां रह रहे भारतीयों की सुरक्षा व सतर्कता के लिए क्रमिक रूप से एडवायजरी जारी कर रहे हैं। उनकी तत्काल वापसी के भी प्रयास किए जा रहे हैं।  हमने वहां अटके भारतीयों के लिए आपात संपर्क नंबर जारी किए हैं। भारतीय समुदाय के लोगों की पूरी मदद की जा रही है। हमें पता है कि वहां अभी भी कुछ भारतीय हैं, हम उनके संपर्क में हैं और उनकी वापसी की कामना करते हैं।  विदेश मंत्रालय ने दिल्ली में कहा कि जो भी भारतीय अफगानिस्तान से आना चाहते हैं, हम उनकी मदद करेंगे। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget