तालिबान के हमदर्द छोड़ें हिंदुस्तान


लखनऊ

अफगानिस्तान में तालिबान की हुकूमत और अत्याचार के खिलाफ यूपी के मुसलमानों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है। पश्चिमी यूपी के जिन मुस्लिम संगठनों और नेताओं ने तालिबान के हर कदम की तारीफ की थी बुधवार को आल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने उन्हें करारा जवाब दिया है।

आल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड के जनरल सेक्रेटरी डॉ. मौलाना यासूफ अब्बास ने एक आधिकारिक बयान जारी करते हुए तालिबान के हर एक्शन का कड़ा विरोध किया है। उन्होंने कहा कि जिस हुसैन ने इस्लाम को बढ़ाया, इंसानियत सिखाया उसके झंडों को पैरों तले रौंद कर तालिबान आगे बढ़ रहा है। बावजूद इसके कुछ मुसलमान उसकी तारीफ कर रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसे मुसलमानों को हिंदुस्तान में रहने का कोई हक नहीं है।

हिन्दू और हिंदुस्तान के खिलाफ है तालिबान

मौलाना यासूफ अब्बास ने कहा कि तालिबान को लेकर हिंदुस्तान की कुछ मुस्लिम तंजीमें खुशियां मना रही हैं। लेकिन ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड तालिबान की मज़ज़्मत करता है। तालिबान हिंदू और हिंदुस्तान के खिलाफ है। तालिबान शिया क़ौम के भी खिलाफ है। कंधे के ऊपर AK47 रख कर चलना यह कौन सा इस्लाम है। तालिबान में हुसैनी इस्लाम नहीं यज़ीदी इस्लाम है। यह गले लगने वाला इस्लाम नहीं गला काटने वाला इस्लाम है। हिंदुस्तान में तालिबानी मानसिकता के लोग होश में आएं। शिया पर्सनल लॉ बोर्ड तालिबान की हिमायत बर्दाश्त नहीं करेगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget