राज ठाकरे से भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने की मुलाकात

 शिष्टाचार के तहत राजनीतिक मुद्दे पर चर्चा: चंद्रकांत पाटिल


मुंबई 

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे से भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने मुलाकात की। दोनों नेताओं की हुई मुलाकात से राज्य की सियासत गर्म हो गई है। शुक्रवार को भाजपा अध्यक्ष पाटिल, मनसे प्रमुख राज ठाकरे से मिलने उनके निवास स्थान कृष्ण कुंज पहुंचे, जहां दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे चर्चा चली। इस चर्चा ने राज्य की राजनीतिक को नई दिशा दे दिया है। क्या भविष्य में भाजपा और मनसे के बीच गठबंधन होगा, इसको लेकर चर्चा की शुरुआत हो चुकी है। राज ठाकरे से मुलाकात करने के बाद मीडिया से बात करते हुए पाटिल ने कहा कि राज ठाकरे से राज्य के राजनीतिक विषय पर जरूर चर्चा हुई है, लेकिन भाजपा के साथ गठबंधन पर कोई चर्चा नहीं हुई। उन्होंने स्पष्ट किया कि बीते कुछ दिन पहले जब मैं नासिक दौरे पर गया था उस समय राज ठाकरे और हमारी अचानक मुलाकात हुई थी। उस वक्त हमने कभी मुंबई में घर पर मिलने की बात की। यह राज्य की संस्कृति है। पाटिल से पूछे जाने पर की राज ठाकरे आपसे मिलने भाजपा कार्यालय भी आ सकते थे, लेकिन आप उनसे मिलने उनके निवास स्थान क्यों गए, इसके जवाब में पाटिल ने कहा कि मूल रूप से मैं अहंकारी नहीं हूं। भाजपा की यह परंपरा और संस्कृति नहीं है, कोई कहता है घर आओ तो हम कहते कि आप हमारे घर आ जाओ यह ठीक नहीं है। पाटिल ने  पहले ही स्पष्ट कर दिया कि हम महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) की उत्तर भारतीय समाज को लेकर जो  भूमिका  है, उसे बिना  बदले हम  गठबंधन पर चर्चा भी नहीं कर सकते हैं।

राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज

चंद्रकांत पाटिल और मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे से मिलने कृष्णकुंज पहुंचे थे। हालांकि चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि यह एक संदिच्छा भेंट थी, लेकिन इस उपहार पर सभी का ध्यान आकर्षित किया गया था। इसके अलावा राजनीतिक हलकों में भी चर्चा तेज हो गई है। क्या भविष्य में भाजपा  और मनसे  के बीच गठबंधन होगा? यह भी एक ऐसा सवाल है, जो इस समय कई लोगों के मन में है। इसलिए चूंकि पिछले 20 दिनों में दोनों नेताओं के बीच यह दूसरी मुलाकात है। वहीं मनसे द्वारा शुरू की गई हिंदुत्व विचारधारा पर लड़ाई से यह स्पष्ट होता है कि शिवसेना को मात देने के लिए भाजपा हिंदुत्व मुद्दे पर मनसे के साथ गठबंधन कर सकती है। पाटिल और विपक्ष नेता फड़नवीस द्वारा दिए गए संकेत की भाजपा हिंदुत्व मुद्दे पर लड़ने वाली पार्टी है और मनसे ने भी अपनी भूमिका बदलते हुए हिंदुत्व विचारधारा कर दिया है, इसलिए भाजपा हिंदुत्व मुद्दे पर मनसे के साथ आ सकती है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget