लैपटॉप-डेस्कटॉप से भी होगा बिना कार्ड नंबर के लेनदेन


नई दिल्‍ली

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भुगतान प्रणाली की सुरक्षा को और मजबूत बनाने के इरादे से टोकन व्यवस्था के दायरे में लैपटॉप, डेस्कटॉप, हाथ घड़ी और इंटरनेट ऑफ थिंग्स आधारित उत्पादों आदि को शामिल किया। टोकन व्यवस्था (टोकनाइजेशन) का मकसद भुगतान प्रणाली की सुरक्षा को और मजबूत बनाना है। इस व्यवस्था के तहत वास्तविक कार्ड ब्योरा के बजाए अनूठा वैकल्पिक कोड ब्योरा जनरेट होता है, जिसे टोकन कहा जाता है। यह कार्ड, टोकन अनुरोधकर्ता तथा चिन्हित उपकरणों के मेल वाला टोकन होता है। इससे पहले, आरबीआई ने कार्डधारक के मोबाइल फोन और टैबलेट पर टोकन व्यवस्था की अनुमति दी थी। इसके तहत लेन-देन के लिये एक वैकल्पिक कोर्ड सृजित होता है। बता दें कि टोकन सिस्टम में आपको भुगतान के लिए अपने कार्ड का पूरा विवरण नहीं देना होता, बल्कि इसके लिए एक विशेष टोकन देना होगा। यह एक यूनिक कोड होगा जो आपके कार्ड, टोकन मांगने वाले और डिवाइस जिससे टोकन भेजा जा रहा है, से मिलकर बना होगा। आरबीआई ने एक बयान में कहा कि व्यवस्था की समीक्षा और विभिन्न पक्षों से मिले सुझाव को देखते हुए टोकन व्यवस्था के दायरे में उपभोक्ता उपकरणों- लैपटॉप, डेस्कटॉप, हाथ घड़ी, बैंड और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) आधारित उत्पादों आदि को शामिल करने का निर्णय किया गया है। इस पहल से उपयोगकर्ताओं के लिये कार्ड के जरिये लेन-देन अधिक सुरक्षित होगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget