पटना में बाढ़ से हालात बिगड़ने के आसार

सीएम नीतीश ने किया घाटों का निरीक्षण 

पटना

राजधानी पटना के आस पास के क्षेत्रों में बाढ़ की आशंका के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को विभिन्न घाटों का निरीक्षण किया। बतातें चलें कि गंगा और पुनपुन नदी के उफान पर होने के कारण पटना जिला के कई गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। इसको लेकर पटना जिला प्रशासन अलर्ट मोड पर है। इसी बीच मुख्यमंत्री ने भी बुधवार को पटना शहर की स्थिति का जायजा लिया।

नीतीश कुमार सड़क मार्ग से निरीक्षण के लिए निकले थे। वे सबसे पहले पटना मुख्य नहर का दीघा लॉक का निरीक्षण किया। इसके बाद कुर्जी गोसाईं टोला के समीप भी उन्होंने बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया, फिर एलसीटी घाट पर बने पटना शहर सुरक्षा दीवार का निरीक्षण किया। इसके बाद गांधी घाट पर गंगा नदी में आई बाढ़ का निरीक्षण किया और अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

इधर, गंगा के बढ़ रहे जल स्तर को लेकर पटना के DM चंद्रशेखर सिंह भी लगातार बाढ़ प्रभावित इलाकों में हालात पर अपनी पैनी नजर बनाये हुए हैं। पटना के जे पी सेतु के नजदीक स्लूइस गेट को बंद कर दिया गया है। पटना के डीएम ने बाढ़ को लेकर पटना के लोगों को बताया कि कई जगह गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, लेकिन फिलहाल पटना शहर पर बाढ़ का खतरा नहीं है। पर हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है। बता दें कि पटना शहर में जल जमाव के हालात ना हो इसके लिए बुडको की तरफ से भी कुछ जगहों पर पम्प लगा कर शहर के पानी को बाहर निकाला जा रहा है। पटना में बाढ़ की निगरानी के लिए फल्ड फाइटिंग के अधिकारी भी लगातार नजर रखे हुए हैं।

इधर, बाढ़ का पानी घाटों पर आ जाने के कारण शव के अंतिम संस्कार के लिए जगह नहीं मिल पा रही है। राजधानी के बांस घाट, गुलबी घाट, दीघा घाट समेत सभी घाट डूब चुके हैं। ऐसे में सड़क किनारे ही शवों को जलाना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा भीड़ दीघा घाट पर देखने को मिल रही है। दीघा घाट पर हाल ही बना मोक्ष धाम भी डूब चुका है।

तत्‍काल शुरू करें सामुदायिक रसोई

डीएम वैशाली में कहा कि बाढग़्रस्त इलाके में जरूरत के अनुसार नाव की व्यवस्था की जाएगी। पंचायत में कम्युनिटी किचन सेंटर तत्काल शुरू किया जाएगा। गंगा के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए जल्द ही प्रखंड को बाढग़्रस्त इलाका घोषित किया जाएगा। प्रत्येक पंचायत में जल्द ही पशु चारा की व्यवस्था की जाएगी और साथ ही  मेडिकल कैंप खोला जाएगा। बैठक में बीडीओ ललन चौधरी, सीओ सचिंद्र कुमार, सर्किल इंस्पेक्टर विजय कुमार, मनरेगा पीओ महेश कुमार, उप प्रमुख आनंद कुमार यादव, मुखिया अरुण राय, मंटू कुमार ठाकुर, सत्येंद्र साह उर्फ लड्डू, राजद के प्रखंड अध्यक्ष विजय रंजन राय, पंचायत समिति सदस्य विनय कुमार यादव, जदयू नेता अनिल सिंह, लोजपा प्रखंड अध्यक्ष ऋषि कपूर पासवान, राघोपुर थानाध्यक्ष मुकेश कुमार पुष्पेंद्र, रुस्तमपुर ओपी अध्यक्ष शुभ नारायण प्रसाद यादव, जुड़ावनपुर थानाध्यक्ष संजीत कुमार समेत कई जनप्रतिनिधि मौजूद थे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget